Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

आम आदमी पार्टी का तानाशाही रवैया

Aam aadmi party behave like dictator

Aam aadmi party behave like dictator

आम आदमी पार्टी का तानाशाही रवैया

केजरीवाल जी की नई-नवेली आम आदमी पार्टी को सत्ता मेँ आए अभी एक महीना भी नहीँ हुआ और इन्होँने अपना गंदा रंग दिखाना शुरु कर दिया है। केजरीवाल की पार्टी और इनके कार्यकर्ताओँ ने ठीक उसी तरह नियम-कानूनोँ को ताक पर पर अपनी मनमानी करना शुरु कर दिया है जैसे केरल और पश्चिमी बंगाल मेँ “आम आदमियोँ” के भेष मेँ छिपे वामपंथियोँ ने वर्षोँ तक किया और अपनी सत्ता वाले राज्योँ मेँ अब भी कर रहे हैँ।

इसका सबसे पहला प्रयास केजरीवाल जी की सरकार के कानून मंत्री सोमनाथ भारती ने दिल्ली हाई कोर्ट और दिल्ली के अन्य जजों की मीटिंग बुलाकर किया. जब विधि सचिव ए एस यादव ने इसे न्यायपालिका के अधिकारों में अतिक्रमण बताकर मीटिंग बुलाने से इंकार कार दिया . जब विधि सचिव ए एस यादव ने इसे न्यायपालिका के अधिकारों में अतिक्रमण बताकर मीटिंग बुलाने से इंकार कार दिया तो यह बात सोमनाथ भारती जी को नागवार गुजरी और उन्होंने श्री यादव जी पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह पिछली सरकार के वफादार हैं जिससे आहात हो कर श्री यादव ने दिल्ली हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस मा० एन वी रमन्ना को पत्र तक लिख दिया कि अब उनका इस पद पर काम करना दुश्वार हो गया है और उन्हें जिला जज के रूप में वापस बुला लिया जाए. श्री भारती ने जिला जज स्तर के अधिकारी के लिए यहाह तक कह दिया कि-“ हर छोटी से छोटी बात के लिए वे कहते हैं कि यह सिर्फ हाई कोर्ट के अधिकार में है, मुझे हाई कोर्ट की अनुमति चाहिए”.

 

अब मुझे तो इस वाकये के बाद सोमनाथ भारती जी के LLB की डिग्री की विश्वसनीयता पर ही संदेह हो रहा है. एक अन्य मामले में केजरीवाल साहब ने अपने मंत्री सोमनाथ भारती को दोषी ठहराने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले को ही गलत बता दिया. इसके बाद एक मामले  में हिंदी अकादमी के उपाध्यक्ष के पद पर गुपचुप तरीके से अपनी पार्टी के नेता कुमार विश्वास को लाद देने का था. ये लोग हर संस्थान को अपने अधीन लाना चाहते हैं, न्यायपालिका मीडिया और पुलिस सब पर ये अपना अधिकार चाहते हैं. प्रशांत भूषण पहले ही सब क्षेत्रों से निजीकरण को ख़तम करने की बात कह चुके  है और कानून मंत्री सोमनाथ भारती द्वारा जजों की मीटिंग बुलाना और केजरीवाल जी द्वारा सुप्रीम कोर्ट के फैसले को गलत बताना न्यायपालिका के अधिकारक्षेत्र में अतिक्रमण का निंदनीय प्रयास था. शिक्षा मंत्री मनीष शिसोदिया ने एक कठिन सवाल पूछने पर मीडिया को पुलिस का प्रवक्ता ही बता दिया , जब मीडिया चौबीसों घंटे इनकी प्रसंशा  कर रही थी तब इनको मीडिया एकदम ठीक दीखता था लेकिन जब इनकी पोल खोल दी तो इन लोगों ने मीडिया को भी धमकाना शुरू कार दिया. कुमार विश्वास ने तो एक कदम आगे बढ़ते हुए दिल्ली पुलिस को भी दिल्ली सरकार के अधीन लाने की मांग कर दी. उल्लेखनीय है की दिल्ली की पुलिस शुरू से ही गृह मंत्रालय के अधीन है क्योंकि दिल्ली देश की राजधानी है और राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर ऐसा किया गया है. आप सोचकर देखिये की राजधानी की सुरक्षा करने वाली पुलिस की कमान अरविन्द केजरीवाल जैसे किसी वामपंथी के हाथ में दे दी जाये तो इसके कितने भयानक अंजाम हो सकते हैं. एक बच्चे की गेंद लग जाने से मंत्री राखी बिरला की कार का शीशा टूट जाने पर जिस प्रकार बच्चे और उसके परिवार का उत्पीडन किया गया वो इसका एक अन्य उदहारण है उस बच्चे के परिवार ने भय के मारे दिल्ली ही छोड़ दी.

 

इसके बाद परसों रात तो आम आदमी पार्टी के इन हुडदंगियों ने हद ही कार दी कानून मंत्री सोमनाथ भारती अपने कुछ चेलों को लेकर मालवीय नगर इलाके के एक मकान पर रेड मारने पहुँच गए और वहां जाकर दिल्ली पुलिस के ACP को धमकाते हुए कहा की इस मकान पर रेड मारो लेकिन जब ACP ने कहा की सर्च वारंट के बिना हम ऐसे किसी के मकान पर रेड नहीं कर सकते तो मंत्री जी और उनके चेलों ने ACP साहब के साथ बदतमीजी करनी शुरू कर दी और उस पर आरोप लगते हुए उसे भी ड्रग्स तस्करों का साथी बता दिया दरअसल मंत्री जी जिस मकान पर छापा मरवाना चाहते थे उसमे विदेशी मूल के लोग रहते थे और उन पर रेड करने के दूरगामी गंभीर परिणाम हो सकते थे लेकिन मंत्री जनी और उसके चेले इतने में ही नहीं रुके और उन्होंने विदेशी मूल की ४ लड़कियों को बंधक बना लिया और उनके साथ मारपीट भी की आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने उन पर नस्लीय टिपण्णी करते हुए कहा की ” ये हब्सी अपराधी किस्म के लोग होते हैं जो ड्रग्स तस्करी और वेश्यावृति करते हैं’  उन लड़कियों को जैसे-तैसे दिल्ली पुलिस उन आप कार्यकर्ताओ  के चंगुल से छुड़ाकर थाने  ले गयी और वहां ड्रग्स सेवन की पुष्टि के लिए उनका मेडिकल किया गया अब मामला विदेशी मूल की लड़कियों का होने के कारण उस देश के दूतावास के अधिकारीयों की भी नजर में आ गया है.

 

गाजियाबाद में स्थानीय औरतों की शिकायत है की केजरीवाल की पार्टी के लोग उनके साथ छेड़छाड़ करते हैं और विरोध करने पर सत्ता की धौंस दिखाते हैं दिल्ली वालों ने तो भूल कर दी अब बाकी देशवासियों को सोचना है की क्या वे ऐसे वामपंथी लोगों को देश की कमान सोंप कर अपनी जिंदगी बाद से बदतर करवाना चाहेंगे.

 

लेखक- संजीत सिंह भलोथिया ऐडवोकेट

 

हमें फेसबुक  पर ज्वॉइन करें. 

भारत -एक हिन्दू राष्ट्र

अंकिता सिंह

Web Title : Aam aadmi party behave like dictator

Keyword :  Aam aadmi party,dictator,aap,arvind kejriwal

Posted by on Jan 17 2014. Filed under खबर, मेरी बात. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

1 Comment for “आम आदमी पार्टी का तानाशाही रवैया”

  1. Awantika Singh

    संजीत सिंह जी बहुत अच्छे से आम आदमी पार्टी की कलई खोलते हुए इनका तानाशाही रवैया उजागर किया हैं

Leave a Reply

*

Recent Posts