Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

घोड़े पर सवार होकर शादी करने आई दुल्हनियां

Bride goes on horse to groom’s house, asks for his hand

Bride goes on horse to groom's house, asks for his hand

Bride goes on horse to groom’s house, asks for his hand

इंदौर।। 25 साल की रजनी, लॉ स्टूडेंट हैं। शादी में रजनी दुल्हन की तरह सज धजकर घोड़े पर बैठीं और बारात लेकर दूल्हे के घर तक गईं। शादी के एक घंटे लंबे जुलूस और नाच-गाने के कार्यक्रम के बाद वह मंडप में पहुंची और दूल्हे के आगे शादी का प्रस्ताव रखा। मध्य प्रदेश के खंडवा जिले की इस कहानी पर शायद ही किसी को विश्वास हो, लेकिन यह हकीकत है जो यहां सतवाड़ा गांव की एक शादी में दिखाई दी।

एक अलग तरह की परंपरा ‘कन्या घतारी’ का पालन पाटीदार समुदाय करता रहा है, जहां दुल्हन अपनी ही बारात लेकर दूल्हे के घर तक जाती है। लंबे वक्त से भुला सी दी गई परंपरा एक बार फिर जीवित होती दिखाई दी। समुदाय के वरिष्ठ लोगों ने रजनी के इस कदम का समर्थन किया और परंपरा को फिर से जीवित किए जाने के लिए उसकी तारीफ भी की।

दो दिन पहले ही विवाह के बंधन में बंधी रजनी को अभी भी घोड़े पर बैठकर दूल्हे के घर तक बारात लेकर जाना थोड़ा अटपटा लगता है। लेकिन, वह मानती हैं कि यह जरूरी था। रजनी कहती हैं कि यह तरीका महिलाओं के सशक्तीकरण में मदद करेगा और समाज में मौजूद कुछ बुराइयों का खात्मा भी करेगा।

आम तौर पर, बारात लेकर दुहन के घर तक जाने को लड़के अपना जन्मसिद्ध अधिकार मानते हैं, लेकिन सरकारी सेवा में कार्यरत 30 साल के प्रवीण पाटीदार के लिए यह गर्व का मौका था कि उनकी दुल्हन बारात लेकर उसके घर आई। प्रवीण और रजनी शादी के बंधन में बंधे।

दूल्हे के पिता इश्वरलाल पटेल ने बताया कि शादी का कार्ड एक महीने पहले ही छपवा दिया गया था, जिसमें महिलाओं के सशक्तीकरण के लिए इस परंपरा का जिक्र भी था। उन्होंने कहा, परिवार की इच्छा थी कि होने वाली बहू बारात लेकर घर तक आए।

परपंरा के मुताबिक, पहले दुल्हन को उसके माता-पिता नारियल भेंट करते हैं। इसके बाद, लड़की घोड़े पर सवार होकर बारात लेकर दूल्हे के घर तक पहुंचती है।

इसके बाद लड़की मंडप तक आती है और दूल्हे के आगे शादी का प्रस्ताव रखती है। लड़की दूल्हे से पूछती है कि क्या वह उसके साथ विवाह के बंधन में बंधना चाहेगा। परिवार के लोग दुल्हन का स्वागत करते हैं और इसके बाद शादी संपन्न हो जाती है।

Source : http://navbharattimes.indiatimes.com

 

INDORE: Rajni, a 25-year-old law student, dressed in best bridal finery, mounted a horse and took her baraat (marriage procession) to the groom’s house through her village. After an hour-long marriage procession and dancing on the streets, she went to mandap (pandal) and asked the groom to marry her.

Unbelievable though it may sound, but that is exactly what happened at a marriage in Satwara village of Khandwa district of Madhya Pradesh.

The unique tradition — ‘Kanya Ghatari’ — which was practised by the Patidar community, wherein the bride takes her baraat to the groom’s place, had long been forgotten, was brought alive. Senior members of the community endorsed Rajni’s initiative to revive the age old tradition and lavished praise on her.

Rajni, who got married two days ago, initially felt a little awkward at the idea of riding a horse and taking the baraat to the groom’s place. “I realized that the idea was to empower women and this practice would certainly eradicate many evils in the society,” she said.

Normally, boys consider it their birth right to take out the baraat. But for Praveen Patidar, 30, a state government employee, seeing his wife coming to marry him on a horse was a matter of pride.

Groom’s father Ishwarlal Patel said that even on the wedding card that was printed a month ago, there was a message of women empowerment. He said his family wished that their daughter-in-law would take her baraat to their house.

About the tradition, he said first the bride was offered coconut by her parents. After completing the ritual, the girl mounted the horse and led the baraat from her house, which after passing from the narrow lanes of village, reached the groom’s place.

The girl then came up to the mandap (pandal) on the horse and proposed the groom, asking him whether he would marry her. Waiting family members of the groom welcomed the bride. Thereafter, the marriage was solemnized.

Short URL: http://jayhind.co.in/?p=1967

Posted by on Apr 26 2013. Filed under आधी आबादी. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

2 Comments for “घोड़े पर सवार होकर शादी करने आई दुल्हनियां”

  1. SUBHASH YADAV

    VERY GOOD

  2. Abhijeet bohra

    Hello,Namashkar, Dosto aap ko shayad jankari hay ya nahi mujay malum nahi par aap ko bata du ki yeh barat nahi hay balki kanya ladkay ko shadi ka nimantarn denay jati hay baad may ladka shadi karnay aata hay or yeh hajaro saalo say chal rahi parmpra hamaray pushkarna samaj ki hay or marwad ki hay. Nagaur Raj
    jo ki aajkal dekhne ko bhut kam rah gyi h…western culture ki taraf jata hua insaan aajkal bade bujurgo ki banayi hui sima ko yun langh rha h jese ki kuch hua hi na ho…aur beparwah hokr riti riwajo me badlaw bhut hi natakiy roop se kiya ja rha h…bs hume hamesha iss baat ka khayal rkhna chahiye ki ye jivan chakra h..aur ise badlte der ni lgti…to hume bs jindagi k sath sath chalte chalte bade bujurgo ke anubhawo ko apni jindagi me utar kr aur andhwishwaso ko bhulkr jiwan gujare….dhanywad…..

Leave a Reply

*

Recent Posts

Photo Gallery