Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

बीजेपी से ज्‍यादा कांग्रेस शासित राज्‍यों में हुई सांप्रदायिक हिंसा

communal riots more in congress states than bjp states
एक तरफ जहां कांग्रेस सांप्रदायिक हिंसा को लेकर बीजेपी को घेर रही है, वहीं इस मामले में चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। आंकड़ों के मुताबिक 2011 से 2013 के बीच सबसे ज्‍यादा सांप्रदायिक हिंसा कांग्रेस शासित राज्‍यों में हुई है। इस दौरान कांग्रेस शसित राज्‍यों में सांप्रदायिक हिंसा के 664 मामले सामने आए हैं। यह जानकारी केंद्रीय गृहमंत्रालय ने दी है। गृहमंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक इसमें पहले स्‍थान पर महाराष्‍ट्र है, जहां सांप्रदायिक हिंसा के 270 मामले सामने आए हैं।

 

बीजेपी भी ज्‍यादा पीछे नहीं

 

सांप्रदायिक हिंसाओं के मामले में बीजेपी शासित राज्‍य भी कांग्रेस से ज्‍यादा पीछे नहीं है। 2011 से 2013 के बीच बीजेपी शासित राज्‍यों में भी सांप्रदायिक हिंसा के 651 मामले सामने आए हैं। यानी कांग्रेस शासित राज्‍यों के मुकाबले मात्र 13 मामले कम।

 

रिपोर्ट के अनुसार सांप्रदायिक हिंसा के मामले में समाजवादी पार्टी के नेतृत्‍व वाले उत्‍तरप्रदेश की स्थिति सबसे बदतर है। 2013 में देशभर में हुई सांप्रदायिक हिंसा के कुल मामलों में 35 फीसदी मामले उत्‍तरप्रदेश में हुए। पिछले साल मुजफ्फरनगर दंगे के बाद देश के कई हिस्‍सों में सांप्रदायिक हिंसा का तनाव बढ़ गया।

 

communal riots more in congress states than bjp states 1

 

संसद में अटका है हिंसा निरोधी बिल

सांप्रदायिक हिंसा रोकने वाला बिल अभी संसद में अटका पड़ा है। बुधवार को भी इसे संसद के मौजूदा सत्र में पेश किया गया था, लेकिन विपक्ष के चलते यह पास नहीं हो सका। इसे पास कराने के लिए यूपीए सरकार कई बार विपक्ष से भी कह चुका है। वहीं विपक्ष इस पर चर्चा करना चाहता है।

communal riots more in congress states than bjp states 2

 

कांग्रेस शासित राज्‍य

महाराष्‍ट्र: 270 मामले

राजस्‍थान: 131 मामले

केरल: 127 मामले
आंधप्रदेश: 108 मामले
अन्‍य राज्‍य: 28 मामले
कुल मामले: 664

 

बीजेपी शासित राज्‍य
मध्‍यप्रदेश: 257 मामले
कर्नाटक: 212 मामले
गुजरात: 172 मामले
अन्‍य राज्‍य: 10
कुल मामले: 651

 

कब कितने हुए हिंसा के मामले 

 

गृह मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देशभर में 2013 में सांप्रदायिक हिंसा के कुल 822 मामले, 2012 में 668 मामले और 2011 में 580 मामले दर्ज किए गए।
Source : bhaskar.com
Posted by on Feb 10 2014. Filed under खबर, सच. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

Leave a Reply

*

Recent Posts