Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

ईश्वर की मर्ज़ी

ईश्वर की मर्ज़ी

 

एक बच्चा अपनी माँ के साथ एक दुकान पर शॉपिंग करने गया तो दुकानदार ने उसकी मासूमियत देखकर
उसको सारी टॉफियों के डिब्बे खोलकर कहा-: “लो बेटा टॉफियाँ ले लो…!!!”
पर उस बच्चे ने भी बड़े प्यार से उन्हें मना कर दिया. उसके बावजूद उस दुकानदार ने और उसकी माँ ने भी उसे बहुत कहा पर वो मना करता रहा. हारकर उस दुकानदार ने खुद अपने हाथ से टॉफियाँ निकाल कर उसको दीं तो उसने ले लीं और अपनी जेब में डाल ली….!!!!

वापस आते हुऐ उसकी माँ ने पूछा कि”जब अंकल तुम्हारे सामने डिब्बा खोल कर टाँफी दे रहे थे , तब तुमने नही ली और जब उन्होंने अपने हाथों से दीं तो ले ली..!!
ऐसा क्यों..??”
तब उस बच्चे ने बहुत खूबसूरत प्यारा जवाब दिया -: “माँ मेरे हाथ छोटे-छोटे हैं… अगर मैं टॉफियाँ लेता तो दो तीन टाँफियाँ ही आती जबकि अंकल के हाथ बड़े
हैं इसलिये ज्यादा टॉफियाँ मिल गईं….!!!!!”
बिल्कुल इसी तरह जब भगवान हमें देता है तो वो अपनी मर्जी से देता है और वो हमारी सोच से परे होता है, हमें हमेशा उसकी मर्जी में खुश रहना चाहिये….!!!
क्या पता..??
वो किसी दिन हमें पूरा समंदर देना चाहता हो और हम हाथ में चम्मच लेकर खड़े हों…

Short URL: http://jayhind.co.in/?p=4646

Posted by on Mar 13 2014. Filed under प्रेरक प्रसंग. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

1 Comment for “ईश्वर की मर्ज़ी”

  1. Fantastic post however I was wantig to know if yyou could write
    a litte more on this subject? I’d be very thankful if you could elaborate a little bit
    more. Many thanks!

Leave a Reply

*

Recent Posts

Photo Gallery