Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

वे महिलाएं जिन पर करता देश गर्व

 

 

Indian women who did nation proud

कहते है किसी व्यक्ति की सफलता के पीछे किसी न किसी महिला का हाथ होता है। वह फिर मां हो, बहन हो या फिर पत्नी। इसी तरह हमारे देश भारत की सफलता, विकास में भी महिलाओं को खास योगदान रहा है। चाहे वह आजादी के पहले का समय हो या फिर बाद का। हर क्षेत्र में महिलाओं ने अपनी भागीदारी निभाई। आज ऎसा कोई क्षेत्र नहीं जो महिलाओं से अछुता हो।

फिर भी रूढियों और परम्पराओं के बीच महिलाओं के लिए यह सब हासिल करना इतना आसान नहीं था। पुरूषों के बराबर दर्जा हासिल करने के लिए महिलाओं को काफी संघर्ष करना पड़ा। इन रूढियों और परम्पराओं को तोड़कर महिलाओं ने आखिरकार सफलता के क्षेत्र में लोहा मनवा ही लिया।

67 स्वतंत्रता दिवस के खास मौके पर रूबरू करवा रहे है ऎसी कुछ खास महिलाओं जिन्होंने अपने जीवन में काफी संघर्ष और देश में पहचान बनाई।

special635215-08-2013-02-15-44N
इंदिरा गांधी 
19 नवम्बर 1917 में नेहरू परिवार में जन्मी इंदिरा गांधी देश की पॉवरफुल लीडर्स में से एक रही। वे भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री बनी। वे 1966 से लेकर 1984 तक 4 बार प्रधानमंत्री रहीं। जब उनकी हत्या हुई थी तब भी वे प्रधानमंत्री थी। स्वाधीनता आंदोलन व देश के विकास में इंदिरा गांधी का अतुलनीय योगदान रहा।

special164315-08-2013-02-15-46D
सरोजनी नायडू
हैदराबाद में जन्मी सरोजनी नायडू बचपन से ही लिखने का शौक था। वे एक कवयित्री थी। उन्होंने अपनी गीतों को देश की सेवा व आजादी के लिए समर्पित कर दिया। वे देश की पहली महिला गर्वनर रही। स्वाधीनता आंदोलन के दौरान जब गांधीजी का जेल जाना पड़ा था तब उन्होंने कहा था देश की एकता तुम्हारे हाथ में है। 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन के तहत उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया और वे भी जेल में रही। उनके साहस, कर्तव्यनिष्ठा ने महिलाओं में जागरूक करने अहम योगदान दिया।

Lata-Mangeshkar_4
लता मंगेशकर 
फेमस गायिका लता मंगेशकर देश की आवाज के रूप में पहचानी जाती है। लता का गाया हुआ गाना … हे मेरे वतन के लोगों… आज भी लोगों की दिलों में गुंजता है। जब लताजी ने इसे गाया था तब देश के प्रधानमंत्री की आंखों में आसूं आ गए थे। ऎसी शख्सियस है लता जी जिन्होंने देश को अपनी आवाज दी।

220px-Kalpana_Chawla,_NASA_photo_portrait_in_orange_suit
कल्पना चावला
छोटी से उम्र में कमाल कर दिया चावला तुमने। हरियाणा के करनाल में जन्मी नासा वैज्ञानिक कल्पना चावला अंतरिक्ष में जाने वाली पहली भारतीय महिला थी। 41 साल की उम्र में 1 फरवरी 2003 को कोल्मिबिया स्पेस शटल लेडिंग से पहले विमान दुर्घटनागस्त हो गया और कल्पना समेत 6 अंतरिक्ष यात्रियों की मौत हो गयी। कल्पना ने देशवासियों को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया।

Kiran-Bedi
किरण बेदी
किरण बेदी ने पहली महिला आईपीएस अफसर के रूप में देश को अपनी सेवाएं दी। अपनी बुलंद इरादों से पहचाने जाने वाली किरण बेदी अन्ना आंदोलन से भी जुड़ी और भ्रष्ट्राचार के खिलाफ आवाज उठाई। उन्होंने सयुंक्त आयुक्त पुलिस प्रशिक्षण और दिल्ली पुलिस स्पेशल आयुक्त के पद कार्य कर चुकी है। उन्होंने विभिन्न पदों पर रहते हुए अपनी कार्यकुशलता का परिचय दिया।

indra-nooyi
इंद्रा नुई
पेप्सिको गु्रप की चेयरेपर्सन विश्व की पॉवरफुल महिलाओं में अपना नाम शुमार करवा चुकी है। फोब्र्स की प्रभावशाली महिलाओं में सूची में इंद्रा 10 वें स्थान पर रही थी।

Sushmita Sen opposes no-pregnancy clause in movie contracts!1
सुष्मिता सेन
हैदराबाद में जन्मी एक्ट्रेस सुष्मिता सेन वायुसेना के रिटायर कमांडर सुबीर सेन की बेटी है। 1994 में मिस युनिवर्स का खिताब जीतकर अपनी पहचान बनाई। उन्होंने कई हिंदी फिल्मों में काम किया। सुष्मिता ने फिल्म दस्तक से बॉलीवुड में दस्तक दी थी। एक्टिंग के लिए सुष्मिता को कई फिल्मफेयर अवॉर्ड भी जीते। चर्चा है वह बॉलीवुड में कमबैक करने जा रही है।

Mary-Kom
मेरी कॉम 
भारतीय महिला मुक्केबाज का नाम कौन नहीं जानता। पांच बार विश्व मुक्केबाजी में विजेता रह चुकी मणिपुर की मैरी कॉम ने देश को अपना खास योगदान दिया। खेल के क्षेत्र में उन्होंने देश को गौरव प्रदान किया। उन्होंने 2012 में ओलम्पिक खेलों में कांस्य पदक हासिल कर देश को गौरान्वित किया।

3ash comback329
ऎश्वर्या रॉय
मिस इंडिया रनर अप और मिस वर्ल्ड रह चुकी ऎश्वर्या रॉय की अदाओं से हर कोई वाफिब है। उन्हें वर्ल्ड की मोस्ट ब्यूटीफुल वुमन के खिताब से नवाजा जा चुका है। बॉलीवुड फिल्मों में अपनी अदाकारी के लिए ऎश को दो बार फिल्मफेयर अवार्ड, दो स्क्रीन अवॉर्ड और दो आईफा अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है। कान फेस्टिवल में भी ऎश अपना व देश का नाम गौरान्वित कर चुकी है। उन्हें 2009 में पद्म श्री अवार्ड दिया गया।

इन सबके हौसलों को देखकर एक कहावत याद आती है “कर खुदी को बुलंद इतना की खुदा भी बंदे से खुद आकर पूछे की तेरी रजा क्या है।”

Source : patrika.com

Short URL: http://jayhind.co.in/?p=2875

Posted by on Sep 4 2013. Filed under आधी आबादी. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

Leave a Reply

*

Recent Posts

Photo Gallery