Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

आखिर ये मुल्ला तुस्टीकरण क्यूँ?

पूरा भारत और हिन्दू जगत आज दहाड़े मर कर रो रहा है की देश में केवल मुल्ला तुस्टीकरण हो रहा है| मुल्लों को अल्पसंख्यक का दर्जा दिया जा रहा है| सभी राजनैतिक दल केवल मुल्लों के वोट के पीछे भाग रहे हैं| पर क्या मेरे हिन्दू भाइयों ने सोचा कभी की ऐसा क्यूँ हो रहा है?

भारत हमेसा से हिन्दू देश रहा है और अगर हिन्दू जाग गए भविष्य में तो फिर से हिन्दू देश ही बन जायेगा पर कब जागेंगे मेरे ये हिन्दू भाई ये तो भविष्य की गर्त में छुपा हुआ है अभी| पर हम अभी का देखते हैं|

आज की सबसे बड़ी परेशानी है की ये मुल्ला तुस्टीकरण क्यों जबकि कुछ विशिष्ट कारणों से धर्मनिरपेक्षता को भारत अरे माफ़ करिए “इंडिया” के संविधान में १९७७ में जोड़ा गया| तो ये एक शब्द ही किसी भी धर्म विशेष के बारे में सोचने तक को मना करता है| पर फिर भी संविधान में लिखे या जोड़े गए के उलट मुल्ला तुस्टीकरण बना हुआ है जो की गैर संवैधानिक ही नहीं बल्कि गैर क़ानूनी भी है| पर फिर भी आज ये धड़ल्ले से ८५ करोड़ हिन्दुओं के सामने हो रहा है| तो कुछ तो विशेष कारन होगा इस धर्मनिरपेक्षता का|

जी हाँ एक बहुत ही विशिष्ट कारण है और ये कारण है हम हिन्दुओं की अकर्मण्यता|

अब आप प्रश्नचिन्ह लगायेंगे की ये अकर्मण्यता कैसे मुल्ला तुस्टीकरण को जन्म दे रही है| तो जनाब जरा अपने अन्दर और अपने घर के अन्दर झांक कर देखें की हिन्दू होने के बावजूद खुद आपके अन्दर एक अन्दर प्रेम हिलोरें मार रहा है और आपके घर के आंगन में एक मुल्ला बैठा हुआ है आपका झूठा हितैषी बन कर की जिस दिन मौका मिले एक और प्रतापगढ़ का कांड हो जाये| तो क्या नेताओं को ये नहीं दिख रहा है की मुल्ला तो आप हिन्दू भाइयों के घर में ही बैठा है और आपको ही बरगला रहा है तो इसमें नेता का क्या दोष है खुद की आस्तीन और आंगन तो गन्दगी से साफ़ कर लो|

मेरे हिन्दू भाइयों चुनाव वाले दिन तो आप घर में सोते हो और चाय-पकौड़ी का मजा लेते हो लेकिन जामा मस्जिद के एक फतवे पर पूरा वोट एक ही दिशा में गिराने के लिए कब्र में पैर लटकाए मुल्ला भी किसी के कंधे पर टंग कर वोट देने जाता है पर आप महान हिन्दू हैं अतः आप क्यों वोट देने जायेंगे| तो भाई जो वोट देगा उसी को तो ये नेता पूछेंगे|

जामा मस्जिद के फतवे का क्यों जिक्र किया मैंने यहाँ?

भाई १९७४ में भी दिखा था ये और हाल ही में ख़तम हुए उत्तर प्रदेश चुनाव में दिखा की कैसे मुल्लो का रखवाला और उनको मुस्लमान ना बनने देने वाला बुखारी ने कैसे बेशर्मी से नव-निर्वाचित उत्तर प्रदेश सरकार से पैसे और अपने सगे रिश्तेदारों के लिए पद की मांग की थी|

पर कुल मिला कर मुल्ले करीब ९५% वोटिंग करते हैं| और इंडिया में करीब ५५% की वोटिंग होती है तो अगर १५ करोड़ मुस्लिम ही वोट दे रहे हैं इस ५५% में और बाकि के अल्पसंख्यक भी पूरी वोटिंग करते हैं तो कौन वोटिंग नहीं कर रहा है?

अब हिन्दू खुद हिसाब लगा लें की १२० करोड़ में से ५५% वोटिंग हो रही है मतलब साफ़ है की सिर्फ ६६ करोड़ की वोटिंग हो रही है और अगर उस ६६ करोड़ में से १५ करोड़ मुल्ले वोट दे रहे हैं और करीब करीब ८-१० करोड़ बाकि के अल्पसंख्यक वोट दे रहे हैं तो हमारे कितने हिन्दू बंधू वोट दे रहे हैं|

अब हिन्दू बन्धु खुद ही देखें की क्या है सच्चाई इस मुल्ला तुस्टीकरण के पीछे और कौन है जिम्मेदार!!!

 

Posted by 

Short URL: http://jayhind.co.in/?p=1297

Posted by on Jul 16 2012. Filed under खबर, मेरी बात, सच, हिन्दुत्व. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can leave a response or trackback to this entry

Leave a Reply

*

Recent Posts

Photo Gallery