Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

कश्मीर

मित्रो, आपको हम एक ऐसी दर्दनाक सच्चाई बताने जा रहे है। जो देश के 99% से ज्यादा लोगो को पता नहीं है। आप सभी ने सुना होगा कश्मीरी पंडितो के बारे में।
हम सभी ने सुना है की हा कुछ तो हुआ था कश्मीरी पंडितो के साथ। लेकिन क्या हुआ  था क्यों हुआ था यह ठीक से पता नहीं है। हम आपको वह बात विस्तार में बताने जा
रहे है की क्या हुआ था कश्मीर में और क्या हुआ था कश्मीरी पंडितो के साथ।

 kashmir

kashmir

पार्ट 1: कश्मीर का खुनी इतिहास
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
कश्मीर का नाम कश्यप ऋषि के नाम पर पड़ा था. कश्मीर के मूल निवासी सारे हिन्दू थे। कश्मीरी पंडितो की संकृति 5000 साल पुराणी है और वो कश्मीर के मूल निवासी है। इसलिए अगर कोई कहते है की भारत ने कश्मीर पर कब्ज़ा कर लिया है यह बिलकुल गलत है। 14वी सताब्दी में तुर्किस्तान से आये एक क्रूर आतंकी मुस्लिम दुलुचा ने 60,000 लोगो की सेना के साथ कश्मीर में आक्रमण किया और कश्मीर में मुस्लिम साम्राज्य की स्थापना की। दुलुचा ने नगरो और गावो को नस्त कर दिया और हजारो हिन्दुओ का नरसंघार किया। बहुत सारे हिन्दुओ को जबरदस्ती मुस्लिम बनाया गया। बहुत सारे हिन्दुओ ने जो इस्लाम नहीं कबूल करना चाहते थे, उन्होंने जहर खाकर आत्महत्या कर ली और बाकि भाग गए या क़त्ल कर दिए गए या इस्लाम कबूल करवा लिए गए। आज जो भी कश्मीरी मुस्लिम है उन सभी के पूर्वजो को इन अत्याचारों के कारन जबरदस्ती मुस्लिम बनाया गया था।

भारत पर मुस्लिम आक्रमण अतिक्रमण – विश्व इतिहास का सबसे ज्यादा खुनी कहानी

भारत के खुनी विभाजन के बारे में जानने के लिए यह विडियो देखे:

अधिक जानकीर के लिए इस लिंक को देखे
http://kasmiripandits.blogspot.com/2012/04/tragic-history-of-kasmir.html
http://en.wikipedia.org/wiki/Kashmir#Muslim_rule

पार्ट 2 १९४७ के समय कश्मीर
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
1947 में ब्रिटिश संसद के “इंडियन इंडीपेनडेंस इ एक्ट” के अनुसार ब्रिटेन ने तय किया की मुस्लिम बहुल छेत्रो को पाकिस्तान बनाया जायेगा। 150 राजाओ ने
पाकिस्तान चुना और बाकि 450 राजाओ ने भारत। केवल एक जम्मू और कश्मीर के राजा बच गए थे जो फैसला नहीं कर पा रहे थे। लेकिन जब पाकिस्तान ने फौज भेज कर
कश्मीर पर आक्रमण किया तो कश्मीर के राजा ने भी हिंदुस्तान में कश्मीर के विलय के लिए दस्तख़त कर दिए। ब्रिटिशो ने यह कहा था की राजा अगर के बार दस्थ्खत कर
दिया तो वो बदल नहीं सकता और जनता की आम राये पूछने की जरुरत नहीं है। तो जिन कानूनों के आधार पर भारत और पाकिस्तान बने थे उन नियमो के अनुसार कश्मीर पूरी
तरह से भारत का अंग बन गया था। इसलिए कोई भी कहता है की कश्मीर पर भारत ने जबरदस्ती कब्ज़ा कर रहे है वो बिलकुल झूठ है।

अधिक जानकारी के लिए यह विडियो आप देख सकते है:

पार्ट 3 सितम्बर 14, 1989
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
BJP के रास्ट्रीय कार्यकारणी के सदस्य और जाने माने वकील कश्मीरी पंडित तिलक लाल तप्लू का JKLF ने क़त्ल कर दिया। उसके बाद जस्टिस नील कान्त गंजू को गोली
मार दिया गया। सारे कश्मीरी नेताओ की हत्या एक एक करके कर दी गयी । उसके बाद 300 से ज्यादा हिन्दू महिलाओ और पुरुषो की निर्संश हत्या की गयी। कश्मीरी
पंडित नर्स जो श्रीनगर के सौर मेडिकल कोलेज अस्पताल में काम करती थी, का सामूहिक बलात्कार किया गया और मार मार कर उसकी हत्या कर दी गयी। यह खुनी खेल
चलता रहा और अपने सेकुलर राज्य और केंद्र सरकार, मीडिया ने कुछ भी नहीं किया।

पार्ट ४ जनुअरी ४ 1990
~~~~~~~~~~~~~~
आफताब, एक स्थानीय उर्दू अखबार ने हिज्ब – उल – मुजाहिदीन की तरफ से एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की, सभी हिन्दू अपना सामन पैक करे और कश्मीर छोर कर चले जाये।
एक अन्य स्थानीय समाचार पत्र, अल सफा, इस निष्कासन आदेश को दोहराया। मस्जिदों में भारत और हिन्दू विरोधी भासन दिए जाने लगे। सभी कश्मीरी हिन्दू/मुस्लिमो को
कहा गया की इस्लामिक ड्रेस कोड अपनाये। सिनेमा और विडियो पर्लोर वगरह बंद कर दिए गए। लोगो को मजबूर किया गया की वो अपनी घडी पाकिस्तान के समय के अनुसार
करे ले।

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक और ब्लॉग आप देख सकते है:
http://kasmiripandits.blogspot.com/2012/04/when-kashmiri-pandits-fled
islamic.html
http://www.rediff.com/news/2005/jan/19kanch.htm– [19/01/90: When Kashmiri
Pandits fled Islamic terror]

पार्ट 5 जनुअरी 19 1990
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
सारे कश्मीरी पंडितो के घर के दरवाजो पर नोट लगा दिया जिसमे लिखा था “या तो मुस्लिम बन जाओ या कश्मीर छोर कर भाग जाओ या फिर मरने के लिए तैयार हो जाओ”।
पाकिस्तान की तत्कालिल प्रधान मंत्री बेनार्जिर भुट्टो ने TV पर कश्मीरी  मुस्लिमो को भारत से आजादी के लिए भड़काना सुरु कर दिया। सारे कश्मीर के
मस्जिदों में एक टेप चलाया गया। जिसमे मुस्लिमो को कहा गया की वो हिन्दुओ को कश्मीर से निकाल बाहर करे। उसके बाद सारे कश्मीरी मुस्लिम सडको पर उतर आये।
उन्होंने कश्मीरी पंडितो के घरो को जला दिया, कश्मीर पंडित महिलाओ का बलात्कार करके, फिर उनकी हत्या करके उनके नग्न सरीर को पेड़ पर लटका दिया गया। कुछ
महिलाओ को जिन्दा डाला दिया गया और बाकियों को लोहे के गरम सलाखों से मार दिया गया। बच्चो को स्टील के तार से गला घोटकर मार दिया गया। कश्मीरी महिलाये उचे
मकानों की छतो से खुद खुद कर जान देने लगी। कश्मीरी मुस्लिम, कश्मीरी हिन्दुओ के हत्या करते चले गए और नारा लगते चले गए की उनपर अत्याचार हुआ है और उनको
भारत से आजादी चाहिए!!!

पार्ट 6 कश्मीरी पंडितो का पलायन
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
350 ,000 कश्मीरी पंडित अपनी जान बचा कर कश्मीर से भाग गए। कश्मीरी पंडित जोकश्मीर के मूल निवासी है उन्हें कश्मीर छोरना पड़ा और तब कश्मीरी मुस्लिम कहते
है की उन्हें आजादी चाहिए!!! यह सब कुछ चलता रहा लेकिन सेकुलर मीडिया चुप रही उन्होंने देश के लोगो तक यह बात कभी नहीं पहुचाई इसलिए देश के लोगो को आज तक
नहीं पता चल पाया की क्या हुआ था कश्मीर में। देश विदेश के लेखक चुप रहे, भारत का संसद चुप रहा, देश के सारे हिन्दू, मुस्लिम, सेकुलर चुप रहे। किसी ने भी
350,000 कश्मीरी पंडितो के बारे में कुछ नहीं कहा। आज भी अपने देश के मीडिया 2002 के दंगो के रिपोर्टिंग में व्यस्त है। वो कहते है की गुजरात में मुस्लिम
विरोधी दंगे हुए थे लेकिन यह कभी नहीं बताते की 750 मुस्लिमो के साथ साथ 250 हिन्दू भी मरे थे और यह भी कभी नहीं बताते की दंगो की सुरुआत मुस्लिमो ने की
थी, जब उन्होंने 59 हिन्दुओ को ट्रेन में गोधरा में जिन्दा जला दिया था। हिन्दुओ पर अत्याचार के बात की रिपोर्टिंग से कहते है की अशांति फैलेगी, लेकिन
मुस्लिमो पर हुए अत्याचार की रिपोर्टिंग से अशांति नहीं फैलती। इसे कहते है सेकुलर (धर्मानिर्पेछ्) पत्रकारिता!!!
http://kashmiris-in-exile.blogspot.in/2009/01/19-years-to-19th-day-of-1990-exodus-of.html

पार्ट 7 कश्मीरी पंडितो के आज की स्थिति
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आज 4.5 लाख कश्मीरी पंडित अपने देश में ही रेफूजी की तरह रह रहे है। पुरे देश या विदेश में कोई भी नहीं है उनको देखने वाला। कोई भी मीडिया नहीं है जो उनके
बारे में हुए अत्याचार को बताये। कोई भी सरकार या पार्टी या संस्था नहीं है जो की विस्थापित कश्मीरियों को उनके पूर्वजो के भूमि में वापस ले जाने को तैयार
है। कोई भी नहीं इस इस दुनिया में जो कश्मीरी पंडितो के लिए “न्याय” की मांग करे। कश्मीरी पंडित काफी पढ़े लिखे लोगो के तरह जाने जाते थे आज वो भिखारियों
के तरह पिछले २२ सालो से टेंट में रह रहे है। उन्हें मुलभुत सुविधाए भी नहीं मिल प् रही है, पिने के लिए पानी तक की समस्या है। भारतीय और विश्व की मीडिया,
मानवाधिकार संस्थाए गुजरात दंगो में मरे 750 मुस्लिमो (310 मारे गए हिन्दुओ कोभूलकर) की बात करते है। लेकिन यहाँ तो कश्मीरी पंडितो की बात करने वाला कोई
नहीं है क्योकि वो हिन्दू है। 20 ,000 कश्मीरी हिन्दू बस धुप की गर्मी के कारण मर गए क्योकि वो कश्मीर के ठन्डे मौसम में रहने के आदि थे।

अधिक जानकारी के लिए यह विडियो आप देख सकते है:

 

पार्ट 8 कश्मीरी पंडितो और भारतीय सेना के खिलाफ भारतीय मीडिया का सद्यन्त्र
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आज देश के लोगो को कश्मीरी पंडितो के मनावाधिको के बारे में भारतीय मीडिया नहीं बताती है लेकिन आंतकवादियों के मनावाधिको के बारे में जरुर बताती है. आज
सभी को यह बताया जा रहा था है की ASFA नाम का किसी कानून का भारतीय सेना काफी ज्यादा दुरूपयोग किया है.. कश्मीर में अलगावादी संगठन मासूम लोगो की हत्या
करवाते है.और भारतीय सेना के जवान जब उन अन्तंकियो के खिलाफ कोई करवाई करते है.. तो यह अलगावादी नेता अपने बिकी हुए मीडिया के सहायता से चीखना चिल्लाना
सुरु कर देते है की देखो हमारे ऊपर कितना अत्याचार हो रहा है!!!

मित्रो बात यहाँ तक नहीं रुके है. अश्विन कुमार जैसे कुछ Director इंशाल्लाह  कश्मीर नामक पिक्चर, वृत्तचित्र बना रहे है और यह पुरे विश्व की लोगो को यह
दिखा रहे है की कश्मीर के भोले भाले मुस्लिम युवाओ पर भारतीय सेना के जवानों  ने अत्याचार किया है.. अश्विन कुमार अपने वृत्तचित्र पुरे विश्व के पटल पर रख
रहे है. हर तरह से देश और विदेश में लोगो को दिखा रहे है की गलती भारतीय सेना की है.. लेकिन जो सच्चाई है वो बिलकुल यह छिपा दे रहे है.

इस विडियो में देखे की किस प्रकार भारतीय सेना के खिलाफ सद्यन्त्र किया जा रहा है:

पार्ट 9 निष्कर्ष:
~~~~~~~~~~~~
सारे मुस्लिम कहते है मोदी को फासी दो जबकि मोदी ने गुजरात की दंगो को समय रहते रोक दिया। लेकिन आज तक एक भी मुस्लिम को यह कहते नहीं सुना गया की
कांग्रेस के नेताओ, गाँधी परिवार और अब्दुल्लाह परिवार को फाशी दो। जो लाखो कश्मीरी पंडितो के कत्लेआम देखते रहे ! मित्रो इस कहानी को अगर आप पढ़ चुके है
तो अपने बाकि मित्रो के साथ शेयर करे ताकि उन्हें भी सत्य का ज्ञान हो। जो कश्मीर में हुआ था आज वो मुस्लिम बहुल केरला, पश्चिम बंगाल, हैदराबाद, UP के
कुछ भागो में हो रहा है। हिन्दुओ पर आज अत्याचार देश के काफी जगहों में हो रहा है। लेकिन सेकुलर मीडिया कुछ बताती नहीं इसलिए आपको और हमें कुछ पता नहीं चल
पता है और इसलिए हमारा या आपका कोई दोष भी नहीं है। अगर हमें कुछ पता ही नहीं चलेगा तो हम करेंगे क्या? आज जितने भी प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मीडिया है
ज्यादातर को अरब से तेल का पैसा मिलता है। यह सेकुलर मीडिया हिन्दुओ के विनाश के बाद ही रुकेगी क्योकि हिन्दू संस्था, पार्टी कभी मीडिया पर ध्यान ही नहीं
देती। आज की सेकुलर मीडिया आधी जिहादियो और आधी कांग्रेस्सियो के नियत्रण में है। हिन्दुओ के साथ हो रहे अत्याचार को बताने के लिए एक भी टीवी या प्रिंट
मीडिया नहीं है।

मित्रो हम नहीं चाहते एक और कश्मीर बने। हम नहीं चाहते की हमारे बच्चे 10 सालो के बाद केरलाइ हिन्दू, बंगाली हिन्दुओ के बारे में कहानिया सुने जैसा हम आज
कश्मीरी हिन्दुओ के बारे में सुनते है!!!

http://kasmiripandits.blogspot.com/2012/03/kasmiri-pandit-untold-story.html

जय हिंद
आर्याव्रत टीम

Short URL: http://jayhind.co.in/?p=1210

Posted by on May 25 2012. Filed under इतिहास, वीडियो, सच, हिन्दुत्व. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can leave a response or trackback to this entry

Leave a Reply

*

Recent Posts

Photo Gallery