Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

कड़िया मुंडा की सादगी: दिल्‍ली में लोकसभा और गांव जाकर कुदाल चलाते हैं

Loksabha Deputy Speaker Kariya Munda

 

 

रांची। राजनेताओं की सादगी की चर्चा जब भी होती है तो आमतौर पर अरविंद केजरीवाल से शुरू होती है और मनोहर पर्रीकर (गोवा के मुख्यमंत्री), माणिक सरकार (त्रिपुरा के मुख्यमंत्री) और ममता बनर्जी (प. बंगाल की मुख्यमंत्री) तक जाकर खत्म हो जाती है। इस बीच छूट जाता है एक ऐसा नाम, जिनकी हैसियत और सादगी के आगे शायद उक्त तीनों फीके पड़ जाएं।

हम बात कर रहे हैं लोकसभा के उपाध्यक्ष कड़िया मुंडा की। सात बार सांसद, चार बार केंद्रीय मंत्री और दो बार विधायक रहे कड़िया का जीवन आज के राजनेताओं के लिए एक मिसाल है। व्यक्तिगत जीवन बिल्कुल वैसा ही जैसा अब से चार दशक पहले था, जब वह पहली बार सांसद चुने गए थे; झारखंड के आदिवासियों के संसद में अकेले प्रतिनिधि। आज भी गांव आते हैं तो वैसे ही खेतों में हल-कुदाल चलाते हैं, तालाब में नहाते हैं। नक्सली हिंसा के लिए देश के सबसे खतरनाक खूंटी जिले में मामूली सुरक्षा के साथ घूमते हैं और इसका डंका भी नहीं पीटते, केजरीवाल की तरह।

कहते हैं राजनीति काजल की कोठरी है, पर कड़िया के दामन पर कोई दाग नहीं लगा। राजनीतिक जीवन में अटल-आडवाणी के नजदीकी रहे, लेकिन उनसे कदम मिलाने की कोशिश कड़िया ने कभी नहीं की। हमेशा अपनी हद में रहकर सक्रिय रहना कडिय़ा की खासियत है। उनके बाद आदिवासी अस्मिता के नाम पर राजनीति शुरू करने वाले कई राजनेता कहां से कहां पहुंच गए, पर कड़िया दौलत-शोहरत की अंधी दौड़ से दूर रहे।

 

Loksabha Deputy Speaker Kariya Munda 1

 

लोकसभा के काम-काज से निपटकर कड़िया जब खूंटी पहुंचते हैं, तब उनकी दशकों पुरानी दिनचर्या शुरू हो जाती है।73 साल का यह शख्स कुदाल लेकर खेतों में निकल जाता है, जहां मिट्टी ऊंची-नीची देखी, उसे बराबर करना। फसल के बीच पनप रहे घास-फूस को उखाड़ फेंकना और पड़ोसी किसानों से मुंडारी (क्षेत्रीय आदिवासी भाषा) में देर तक बात करना। यह है माटी के इस लाल का शगल। इनके इलाके में नक्सलवाद पनपा , झारखंड बना,  भ्रष्टाचार चरम पर पहुंचा लेकिन इस सबका कड़िया पर कोई असर नहीं पड़ा। वे अभी भी मामूली सुरक्षा के साथ इलाके में रहते हैं। राजनीति के स्थापित सत्य के विपरीत वे झारखंड में कभी भाजपा के किसी गुट के मुखिया नहीं बने। नए लोग आते गए,वे रास्ता देते गए। कौन आगे बढ़कर क्या बन गया, इससे कड़िया को खास सरोकार नहीं रहा। वे खूंटी में अपनी जमीन के साथ थे,  हैं और शायद आगे भी रहेंगे।

 

15वीं लोकसभा के उपाध्यक्ष कड़िया मुंडा का जन्म 20 अप्रील 1936 को झारखंड के खूंटी जिले के अनिगड़ा गांव में हुआ था। इनके पिता का नाम हड़वा मुंडा और मां का का नाम चंबरी देवी था। 24 मई 1967 को इनका विवाह सुनंदा देवी से हुआ। मुंडा की तीन बेटियां और दो बेटे हैं। पत्नी का देहांत हो चुका है।

मुंडा को पहली बार 1977 में बनी मोरारजी देसाई सरकार में इस्पात राज्य मंत्री के तौर पर शामिल किया गया था। 1999 में बनी भाजपानीत एनडीए की सरकार में कैबिनेट मंत्री बनने का मौका मिला। कड़िया मुंडा अभी भाजपा के वरिष्ठ नेताओं में से एक हैं। इमरजेंसी के बाद कड़िया मुंडा राजनीति में ज्यादा सक्रिय हुए थे। ‘जनसंघ’ के दिनों से लेकर आज भारतीय जनता पार्टी तक, उन्होंने पार्टी के साथ-साथ भारतीय राजनीति के भी कई उतार-चढ़ाव देखे हैं।

कड़िया मुडा का पैतृक जिला खूंटी मध्यपूर्वी भारत का एक आदिवासी बहुल जिला है। संयोग की बात है कि भगवान बिरसा मुंडा का जन्मस्थान ‘उलीहातू’ भी इसी जिले में है। कड़िया मुंडा ने रांची विश्वविद्यालय से एंथ्रोपोलॉजी में एमए किया है।

मुंडा पहली बार छठी लोकसभा के लिए 1977 में बिहार के (तब झारखंड नहीं बना था) खूंटी संसदीय क्षेत्र से चुने गए थे। फिर 1989, 1991, 1996, 1998 और 2009 में उसी क्षेत्र से सांसद बने। इस बीच वे बिहार और बाद में झारखंड विधानसभा के लिए विधायक भी चुने गए। कहने की बात नहीं है कि न सिर्फ आदिवासियों के बीच, बल्कि अन्य समुदायों के बीच भी कड़िया मुंडा काफी लोकप्रिय हैं।

8 जून, 2009 से वे वर्तमान लोकसभा के उपाध्यक्ष हैं। अध्यक्ष मीरा कुमार की तरह ही कड़िया भी सर्वसम्मति से चुने गए हैं। उनके मनोनयन के बाद तत्कालीन सदन के नेता प्रणव मुखर्जी ने यह कहते हुए खुशी जाहिर की थी कि विपक्षी दल के सांसद को लोकसभा उपाध्यक्ष बनाने की 32 साल से चली आ रही परंपरा उस व्यक्ति के साथ आगे बढ़ रही है जिसने इसे शुरू होते देखा है। मुंडा एक ही लोकसभा क्षेत्र से अभी सातवीं बार सांसद हैं।

Loksabha Deputy Speaker Kariya Munda 10

Loksabha Deputy Speaker Kariya Munda 9

Loksabha Deputy Speaker Kariya Munda 8

Loksabha Deputy Speaker Kariya Munda 7

Loksabha Deputy Speaker Kariya Munda 6

Loksabha Deputy Speaker Kariya Munda 5

Loksabha Deputy Speaker Kariya Munda 4

Loksabha Deputy Speaker Kariya Munda 3

Loksabha Deputy Speaker Kariya Munda 2

 

हमें फेसबुक  पर ज्वॉइन करें. 

भारत -एक हिन्दू राष्ट्र

अंकिता सिंह

Web Title : Loksabha Deputy Speaker Kariya Munda 

Keyword :  Kariya Munda,Loksabha Deputy Speaker,BJP,jharkhand CM news, Chief Minister news jharkhand, Government News jharkhand, jharkhand CM news, jharkhand news, jharkhand breaking news, latest news in jharkhand, jharkhand live news, jharkhand hindi news

Posted by on Feb 23 2014. Filed under सच. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

Leave a Reply

*

Recent Posts