Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

Malayanam Actress Shweta Menon Controversial Life

shweta-menon

 

मलयालम फिल्‍म अभिनेत्री श्‍वेता मेनन ने हाल ही में कांग्रेस के सांसद एन पीतांबर कुरूप पर जो छेड़छाड़ के आरोप लगाये थे। हालांकि उन्हें औपचारिक रूप से वापस ले लिया है। 71 वर्षीय सांसद पर आरोप लगाने वाली श्‍वेता वैसे तो मलायलम फिल्‍मों में काफी हिट हैं, लेकिन इसे संयोग कहें या स्‍टंट, वो जब-जब सुर्खियों में आयीं, तब तब मुद्दे बेहद विवादित ही थे।

ताज़ा मुद्दा- कोल्‍लम से सांसद पीतांबरी के खिलाफ श्‍वेता ने आरोप लगाया कि प्रेसीडेंट नौकायान के दौरान सांसद ने उनके साथ छेड़छाड़ की। इस पर उन्‍होंने पुलिस में सांसद के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज करायी। श्‍वेता के इस बयान पर पुलिस ने धारा 354 और 354 (ए) के तहत मामला दर्ज कर लिया। मामला मीडिया में आते ही जैसे कांग्रेसी खेमे में हड़कंप सा मच गया। तमाम कांग्रेसियों ने श्‍वेता के कैरेक्‍टर तक पर सवाल खड़े कर दियो। लेकिन बाद में मामला वापस ले लिया गया। इससे पहले भी श्‍वेता विवादों के घेरे में आ चुकी हैं। वहीं उनके जीवन से जुड़ी कुछ रोचक बातें भी हैं।

 

0036_14

पहला विवाद

कहते हैं कि फिल्म लाइन में यदि शुरुआत में ही कोई कंट्रोवर्सी जुड़ जाए तो नाम अपने आप हो जाता है। ऐसा ही श्वेता के साथ भी हुआ।

श्‍वेता मेनन के करियर की शुरुआत ही कामसूत्र का विज्ञापन से हुई। अपने इस एड शूट के लिए वो विवादों के घेरे में आयी थीं। उन्‍होंने कामसूत्र कंडोम के विज्ञापन के लिये बोल्ड तस्‍वीरें भी खिंचवायी थीं। जिन्हें बाद में सार्वजनिक भी किया गया था।

 

 

0036_15

दूसरा विवाद
श्‍वेता की प्रेगनेंसी श्‍वेता ने अपने जीवन के कई रिएलिटी के पलों को फिल्‍म को समर्पित कर दिया। जिसका सबसे बड़ा उदाहरण प्रेगनेंसी के दिन हैं। श्‍वेता ने फिल्‍म में अपने पूरे 9 महीने फिल्‍म में शूट करवाये। ऐसे करने पर उनका कड़ा विरोध किया गया था।फिल्म “कालीमन्नु” के लिए उन्होंने पूरी फिल्म शूट की थी।
जन्म की इस पूरी प्रक्रिया को निर्देशक ब्लेसी ने शूट किया। यह फिल्म है एक गर्भवती की खुशी और दर्द के बारे में। इसमें बताया गया है कि कैसे एक महिला इस अवधि में खुशी के साथ दर्द सहती है।
श्‍वेता की प्रेगनेंसी श्‍वेता ने अपने जीवन के कई रिएलिटी के पलों को फिल्‍म को समर्पित कर दिया। जिसका सबसे बड़ा उदाहरण प्रेगनेंसी के दिन हैं। श्‍वेता ने फिल्‍म में अपने पूरे 9 महीने फिल्‍म में शूट करवाये।
श्वेता के इस कदम का काफी विरोध हुआ था। बीजेपी महिला मोर्चा ने उनपर व फिल्म के निर्देशक पर मातृत्व का व्यवसायीकरण करने का आरोप लगाए थे।
0033_10

तीसरा विवाद

सेक्‍स पावर की गोलियां और श्‍वेता श्‍वेता मेनन की फिल्‍म का एक और विवाद सेक्‍स पावर बढ़ाने वाली गोलियों से जुड़ा है। असल में उनके निर्माता ने फिल्‍म का प्रोमोशन करने के लिये मूसली पावर नाम की दवा के विज्ञापन का सहारा लिया, जिसका श्‍वेता ने विरोध किया था।

 

0036_16

चौथा विवाद

एक्‍ट्रेस श्वेता मेनन ने एक नेता पर छेड़खानी का आरोप लगाया। श्वेता ने कहा, ‘मेरी बेइज्जती की गई है। मैं अपने बयान पर कायम हूं।’ हालांकि, श्वेता ने छेड़छाड़ करने वाले नेता का नाम नहीं बताया है। जिस कार्यक्रम में यह विवाद हुआ उसकी वीडियो फुटेज में कांग्रेस सांसद एन पीतांबर कुरुप दिख रहे हैं जो श्वेता को छू रहे हैं। कोल्लम से 73 साल के लोकसभा सांसद कुरुप ने खुद को बेगुनाह बताते हुए कहा, ‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस विवाद में मेरा नाम घसीटा जा रहा है। मैं मजबूत सुबूत देकर अपनी बेगुनाही साबित कर दूंगा।’

 

पांचवा विवाद

2004 में फैशन शो के दौरान राष्ट्रीय ध्वज (तिरंगा) का अपमान करने के कारण श्वेता मेनन को विरोध और कानूनी कार्रवाई का भी सामना करना पड़ा था। उन पर आरोप लगा था कि उन्होंने शो के दौरान राष्ट्रीय ध्वज ‘तिरंगा’ को असम्मानजनक ढंग से लहराया था।

 

एक विज्ञापन से मॉडलिंग तक पहुंची श्वेता

श्वेता का जन्म एक मलयाली परिवार में 23 अप्रैल 1974 को चंडीगढ़  में हुआ। उनके पिता नारायण कुट्टी एयरफोर्स में थे। मां सरदा मेनन गृहणी हैं। श्वेता का भी सपना अपने पिता की तरह एयरफोर्स में जाने का था, लेकिन खूबसूरत होने के साथ ही उन्हें कैमरे के सामने होने का भी शौक था। एक बार एक फैशन शो के दौरान उन्हें एक विज्ञापन का न्योता मिला। हालांकि इस विज्ञापन में वह निजी कारणों से काम तो नहीं कर पाईं, लेकिन उन्हें इस विज्ञापन के जरिए मॉडल के रूप देखा गया। जिसके बाद उन्होंने मॉडलिंग में अपना कैरियर बढ़ाने की शुरुआत की। छोटे मॉडलिंग कैरियर के बाद उन्होंने सीधे 1994 में श्वेता पहली ग्लैडरैग्स सुपरमॉडल (फीमेल) भी बनीं। इसके बाद श्वेता ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और उसी साल होने वाले मिस इंडिया कॉन्टेस्ट के लिए अपना नाम लिखवा दिया।

1994 में मिस इंडिया की प्रतियोगिता में श्वेता ने भाग लिया था, जब सुष्मिता सेन, ऐश्‍वर्या राय और फ्रांसेस्‍का हार्ट शीर्ष तीन पर थीं, तब श्‍वेता चौथे स्‍थान पर रही थीं।

 

अभिनय से आइटम गर्ल तक बनी श्वेता

मिस इंडिया कॉन्टेस्ट के बाद श्वेता को उम्मीद थी कि उन्हें बॉलीवुड का बुलावा आएगा, लेकिन शायद इसमें थोड़ी देरी थी। उससे पहले ही उन्हें मलयालम फिल्मों से अपने कॅरियर की शुरुआत की। मलयालम फिल्मों में अपने अभिनय और बोल्डनेस से उन्होंने कईं निर्देशकों का ध्यान अपनी ओर खींचा। इसके बाद उन्हें फिल्म इश्क में बतौर आइटम सांग मिला। इसके बाद हिंदी फिल्म में भी उन्होंने अपनी पहचान बना ली।

 

फिल्मों में काम करने के अलावा श्वेता मेनन ने कई टेलीविजन शो, अवॉर्ड फंक्शन और अन्य कार्यक्रमों में एंकरिंग भी की है। इसके साथ ही उन्होंने कुछ ऐड फिल्म भी शूट की है। हालांकि इतना सबकुछ मिलने के बाद भी उन्हें शायद उतना ध्यान नहीं मिला, जिसके लिए श्वेता ने मेहनत की थी। इसके बाद श्वेता ने अपने बोल्डनेस को विज्ञापन के जरिए पर्दे पर उतारा। उनका कामसूत्र कॉन्डोम का विज्ञापन काफी चर्चा में रहा था। यहीं से उन्हें खास पहचान मिली। इसके बाद से उनकी लाइफ में कंट्रोवर्सीज जुड़ती गई।

Source : bhaskar.com

Posted by on Nov 9 2013. Filed under आधी आबादी, खबर. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

Leave a Reply

*

Recent Posts