Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

कार्ड में छपवाया, कृपया मेरी शादी में कोई भी शराब पीकर न आएं..

Wedding card, do not drink and come in any event

Wedding card, do not drink and come in any event

भोपाल। कृपया! शादी में शराब पीकर न आएं। यह अपील की है एक युवती ने। जिसकी शादी 18 मई को होने वाली है। बेटी की भावनाओं का सम्मान करते हुए परिजनों ने भी निमंत्रण पत्र पर इसका उल्लेख किया। फिर भी लाख टके का सवाल यह था कि  बारातियों को समझाएंगे कैसे? इसके लिए वर-वधु पक्ष बैठे, चर्चा हुई।

वर पक्ष ने इसकी जिम्मेदारी लेते हुए कहा कि बरात में शामिल लोगों को हम समझा देंगे। होने वाले दूल्हे ने भी युवती का भरपूर समर्थन किया। आनंद नगर निवासी युवती सुलेखा डबल एमए है। सुलेखा की मां कमला चौहान ने बताया कि उसकी बेटी की शादी साईं बाबा नगर निवासी योगेश मेदेले से दो माह पहले तय हुई है।

Wedding card, do not drink and come in any event

Wedding card, do not drink and come in any event

शादी के कार्ड छपने की बात आई तो बेटी ने शर्त रखी कि वो फेरे तभी लेगी, जब उसके कार्ड में यह छपवाया जाए कि समारोह में कोई भी शराब पीकर न आए। इसकी भनक लगते ही लड़के वाले भी असमंजस में पड़ गए। वर पक्ष का कहना था कि वो अपने बेटों को शराब पीने से तो रोक सकते हैं, लेकिन बारातियों को कैसे समझाएंगे। सुलेखा के पिता बाबूराम ने बताया कि वह इस शादी से बहुत खुश थे, लेकिन बेटी की शर्त ने एक बाद तो जान सांसत में डाल दी। परिवार में सभी ने इसका विरोध किया। कई दिनों तक इसको लेकर घर में तनाव रहा।

आखिरकार हमें बेटी की जिद के आगे झुकना पड़ा। इसके बाद लड़के वालों से बात की गई तो वह भी बात मान गए। दोनों परिवारों की सहमति के बाद गुरुवार को लगन लड़के के घर भेजा गया।

सहेली की शादी में हुआ था वर-वधु पक्ष में विवाद

सुलेखा ने बताया कि एक सहेली की शादी में दुल्हन के साथ फोटो खिंचवाने को लेकर शराब पिए हुए दूल्हे के दोस्तों ने उसके साथ अभद्र व्यवहार किया था। इसको लेकर वर और वधु पक्ष में विवाद भी हुआ। उसी समय मैंने तय कर लिया था कि वो अपनी शादी के कार्ड में यह जरूर लिखवाएगी कि समारोह में शराब पीकर न आएं।

होने वाले पति ने कहा, मैं भी सहमत

सुलेखा के होने वाले पति योगेश भी पोस्ट ग्रेजुएट हैं। योगेश ने दैनिक भास्कर से फोन पर कहा कि उसके निर्णय से पहले तो वह खफा थे। लेकिन, जब सुलेखा ने इस वजह के पीछे कई तर्क दिए तो मुझे भी उसके आगे झुकना पड़ा और अपने माता-पिता को इसके लिए राजी करना पड़ा।

Source : bhaskar.com

Short URL: http://jayhind.co.in/?p=2067

Posted by on May 3 2013. Filed under आधी आबादी. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

Leave a Reply

*

Recent Posts

Photo Gallery