Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

कांग्रेस विधायक सत्यनारायण पटेल की सेक्स सीडी से गरमाई सियासत

congress mla satyanarayan patel sex cd

इंदौर। मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव का टिकट पाने और विरोधी का टिकट कटाने की गंदी राजनीति शुरू हो गई है। कांग्रेस विधायक सत्यनारायण पटेल की कथित सेक्स सीडी ने इंदौर में बखेड़ा खड़ा दिया है। बुधवार को इस सीडी के दिल्ली पहुंचने की चर्चा के बाद विधायक पटेल सामने आए। उन्होंने इस सीडी को फर्जी बताते हुए कांग्रेस नेता व अपने करीबी रिश्तेदार विशाल पटेल को जिम्मेदार ठहराया। सफाई देते समय वे रो भी पड़े। साथ ही, उन्होंने इसे उनका टिकट काटने के लिए राजनीतिक षड्यंत्र करार दिया। उधर, थोड़ी ही देर बाद विशाल मीडिया के सामने पहुंचे और उन्होंने कहा कि सीडी से उनका कोई लेना-देना नहीं है।

कथित सीडी को लेकर विधायक पटेल के साथ रहने वाले सुनील राणा का नाम भी उछला। चर्चा रही कि सीडी सुनील राणा ने बनाई है और इसे दबाने के एवज में मोटी डील की है। इसके बाद राणा सफाई देने पहुंचे और सीडी मामले से पल्ला झाड़ लिया। सीडी में पटेल को एक महिला के साथ कथित तौर पर आपत्तिजनक हालत में देखा गया है।

विधायक पटेल की सीडी की गूंज राजनीतिक गलियारों में लंबे समय से थी। बीते दो दिनों से सीडी वाट्स एप के जरिए सार्वजनिक हो गई और दिल्ली के नेताओं तक भी पहुंच गई। टिकट के लिए दिल्ली में डेरा डाले बैठे पटेल ने पहले वरिष्ठ नेताओं को सफाई दी और दिल्ली की एक लैब में जांच के लिए क्लिपिंग पहुंचाई।

दिल्ली से लौटने के बाद बुधवार दोपहर वे अपने समर्थकों के साथ पत्रकारवार्ता लेने आए। सीडी को फर्जी बताते हुए उन्होंने कहा कि षड्यंत्रपूर्वक उनकी राजनीतिक हत्या के लिए साजिश रची जा रही है।

फर्जी है सीडी

सीडी की क्या सच्चाई है?

एक-दो महीने से सीडी की बात सामने आ रही थी, लेकिन मैंने किसी का प्रतिवाद नहीं किया। कुछ षड्यंत्रकारियों ने वाट्स एप पर इसे जारी किया। दो दिन पहले दिल्ली से मुझे जानकारी मिली। सुबह शिकायत करने एसपी कार्यालय गया था। अधिकारियों ने कहा कि इसमें कुछ कमी है। मामले की जांच कानून के माध्यम से करवाकर दूध का दूध और पानी का पानी करूंगा।

कौन लोग है इसके पीछे?

व्यक्तिगत रूप से तो कुछ नहीं कह सकता, लेकिन मेरा मानना है कि विशाल पटेल हो सकते हैं इसके पीछे। राजनीतिक प्रतिस्पर्धा के चलते ऐसा हुआ है। मेरे परिवार की तीन पीढ़ी का इतिहास है। मेरा बेटा, मेरा भाई और मेरा भतीजा है ..। (फिर रोने लगे, दूसरे नेताओं ने उन्हें चुप कराया।)

क्या सीडी को लेकर आपको ब्लैकमेल भी किया गया। कितना पैसा मांगा?

हां मुझ पर दबाव आया था। कुछ लोगों के जरिए बात भी हुई थी। तब यह कहा गया था कि हम आमने-सामने नहीं मिलेंगे। पेमेंट की बात मत करो। सब जगह से अलग-अलग बातें थीं।

पहले वीडियो नहीं आया तो डील का आधार क्या था?

लंबी बहस है। इस पर बाद में बात करेंगे। मुझे अपने परिवार के सामने बोलना पड़ रहा है। बहुत गिल्टी फील हो रही है।

क्या नामजद शिकायत कराई है।

नहीं नामजद शिकायत तो नहीं की है। जांच के बाद सब साफ हो जाएगा।

क्या आप देपालपुर सीट से दावा छोड़ रहे हैं?

नहीं मैंने दावा न कल छोड़ा था न छोड़ूंगा। मुझे मेरी पार्टी पर भरोसा है।

(जैसा विधायक सत्यनारायण पटेल ने कहा)

—-

आरोप साबित करें नहीं तो मानहानि का दावा करूंगा

सीडी को लेकर विधायक ने आप पर आरोप लगाए हैं।

आरोप निराधार हैं। कोई सबूत हो तो दिखाएं। सिर्फ माहौल बनाया जा रहा है कि चुनाव नजदीक है। देपालपुर की दावेदारी का मामला पेंडिंग है। मेरा इससे कोई लेना-देना नहीं है। पटेल आरोप साबित करें, नहीं तो मैं मानहानि का मुकदमा दायर करूंगा।

क्या इसके पीछे भी कोई साजिश है।

मैं भी देपालपुर क्षेत्र से दावेदार हूं। मेरे पिता दो मर्तबा विधायक रहे हैं। विधायक मेरी छवि धूमिल करना चाहते हैं। उन्हें लगता है कि उनका टिकट कटेगा तो मुझे मिलेगा। मैं इस तरह के कृत्य नहीं करता। इस कांड को तो भाजपा भुना रही है।

क्या आपकी दावेदारी विधानसभा से कायम है?

मैं क्षेत्र में 10 साल से सक्रिय हूं। मेरी दावेदारी पुख्ता है और सारे सर्वे में मैं उनसे आगे हूं। टिकट जिसे भी मिले मिले। मैं उनका काम करूंगा।

आपने अपने स्तर पर क्या जांच की।

मुझे तो अखबारों के माध्यम से सीडी के बारे में पता चला था, मैंने सीडी नहीं देखी।

सीडी को लेकर सुनील राणा का नाम सामने आ रहा है।

मैं उन्हें व्यक्तिगत तौर पर उन्हें नहीं जानता।

अब आप क्या करेंगे।

यदि प्रमाण नहीं लाकर दिया तो मैं उनके खिलाफ मानहानि का दावा करूंगा। राजनीतिक षड्यंत्र है, वे मेरी छवि धूमिल करना चाहते हैं।

(जैसा विशाल पटेल ने कहा)

—–

मेरा सीडी से कोई लेना-देना नहीं: सुनील राणा

कथित सीडी को लेकर होटल व प्लॉट की डील की चर्चा भी जोरों पर है।

नहीं ऐसी कोई डील नहीं हुई।

तो फिर आपने कम समय में इतनी संपत्ति कैसे अर्जित की?

मेरी खुड़ैल में पैतृक संपत्ति थी। उसे बेची है। वैष्णवधाम मंदिर के समीप का प्लॉट मेरी मां के नाम है। उसकी रजिस्ट्री 2009 में हो गई थी। बेटमा में बने होटल के लिए भी मैंने 2007 में जमीन खरीदी थी।

 

Posted by on Oct 24 2013. Filed under खबर, सच. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

Leave a Reply

*

Recent Posts