Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

मुसलमानों के लिये कांग्रेस भाजपा से भी अधिक घातक

BJP

अगर हम देखे तो 1947 आजादी के बाद मुसलमानो ने हमेशा कांग्रेस को ही वोट दिया है यू कहा जाये तो मुसलमान हमेशा ही कॉंग्रेस के वोट बैंक रहे है.असल मे शुरु से ही कांग्रेस ने मुसलमानो को कट्टर हिन्दू पार्टीयो और सम्प्रदायिक फसादो का डर या भय देखा कर मुसलमानो को अपने पाले मे रखा. इस के लिये हम ये भी कह सकते है के विपक्षी पार्टीयो ने भी अपना इस तरह का रवैया रखा जिस के करण मुसलमानो को ये लगने लगा के कांग्रेस उन की हितैषी है, इस लिये मुस्लिम समुदाय हमेशा कांग्रेस से जुड़ा रहा.कांग्रेस पार्टी भी हमेशा यही दावा करती है के मुसलमानो के विकास और तरक्की के लिये उस ने बहुत काम किया है मगर जब हम देखते है तो ये सच्चाई से बहुत परे लगती है.

 

अगर हम देखे तो आजादी के बाद कांग्रेस की ही सब से जयदा सरकार रही है. कांग्रेस ने मुसलमानो को सिर्फ झुटे वादो से बहलाया है और मुसलमान बेवक़ूफ़ भी बने है. कांग्रेस के मुसलमान के विकास के लिये उठाये गये कदम की सच्चाई को सचचर कमिटी की रिपोर्ट खोलती है. सचचर रिपोर्ट के अनुसार भारत मे मुसलमानो की स्थिति बॅक्वर्ड क्लास से भी अधिक खराब है. रिपोर्ट के अनुसार मुसलमानो का हर क्षेत्र मे उन की स्थिति दयनीय है. रिपोर्ट मे मुसलमानो के हालत सुधारने के लिये 15 सूत्री फार्मूले सुझाये गये है मगर 7 साल पूरे होने के बाद भी अभी तक उस पर अमल शुरु नही हुआ है. रिपोर्ट मे ये भी सॉफ जिक्र है के केन्द्र के साथ साथ राज्य भी मुसलमानो के दयनीय स्थिति के लिये दोनो जिम्मेदार है. 2014 लोकसभा चुनाव जैसे ही करीब आ रहे है अब कांग्रेस ने फिर सच्चर रिपोर्ट का ललच दे कर मुसलमानो को वोट लेने के लिये जाल फेंकना शुरु कर दिया है. अब मुसलमानो को इस के लिये सोचना चाहिये.

 

कांग्रेस ने जो मुसलमानो को सब से ज्यादा भय देखा कर रखा वो सम्प्रदायिक दंगे व फसाद का. जब के अगर हम इतिहास देखे तो पता चलता है के कांग्रेस के काल मे सब से ज्यादा फसाद हुए और मुसलमान मारे गये. अगर हम देखे तो आज़ादी के बाद कुल छोटे बड़े मिला कर 1775 से अधिक दंगे हुए है जिस मे 85 % कांग्रेस के शासनकाल मे हुआ है. ( मे एक बात यहा साफ कर दु के सीख, ईसाई, हिन्दू भी दंगे मे मारे गये है, म्गर मे यहा मुसलमानो के बारे मे बात कर रहा हूँ.).देश का इतिहास देखिए। 60 के दशक के बाद देश में करीब 16 बड़े दंगे हुए हैं जिसमें से 15 केवल कांग्रेस शासित राज्‍य या उनके सहयोगी पार्टियों के शासन काल में हुए हैं। भाजपा के शासन में केवल एक दंगा हुआ वो भी गुजरात मे जिस मे सरकार के अनुसार 1000 मुसलमान मारे गये मगर ए सांख्या 20 हज़ार के उपर है. कांग्रेस के हुए दंगो मे आसम मे नीली और भागलपुर के दंगो मे सरकारी आंकरा 5000 बताता है जब के नीली- असम मे इस की सांख्या 50 हज़ार से अधिक है. मेरठ, मालियाना, हशिमपुरा आदि मे जिस तरह नवजवानो को खड़ा कर के गोली मारी गयी उस से तो य्ही लगता है के ए दंगे नही बल्के सुनियोजित तरीके से मुसलमानो का नरसंहार था. कांग्रेस के शासनकाल मे मुसलमानो का नरसंहार कई बार हुआ है, फिर भी कांग्रेस अपने आप को मुसलमानो की सब से बड़ी हितषी बंटी है.

 

आजादी के बाद भारत की पूरे विश्‍व मे उस समय बदनामी हुई जब भाजपा-और उस के सहयोगीय आर . एस . एस और अन्य स्मप्रदायिक पार्टीयो ने बाबरी मस्जिद का विध्वंस कर दिया. कांग्रेस ने इस के लिये भाजपा को जिम्मेदार ठहराया, जब के हक़ीक़त ये है के भाजपा के साथ कांग्रेस भी मस्जिद गिरने मे शामिल रही है. राजीव गाँधी ने इस मस्जिद का ताला खुलवा कर एक विवाद पैदा किया था और जब मस्जिद गिराई जा रही थी उस समय के प्रधानमंत्री नरसिम्हा रॉवो का खुला समर्थन था. ये एक रिपोर्ट मे सॉफ तौर पे कही गयी है के जब सचिव उन्हे बताने के लिये उन के निवास पहुंचे के मस्जिद को खतरा है और कुछ भी हो सकता है तो मालूम हुआ के प्रधानमंत्री पूजा मे ब्यस्त है. जब मस्जिद गिर गयी तो नरसिम्हा रओ पूजा घर के बाहर आये.

 

अब सवाल ये भी है के आखिर मुसलमान क्या करे ?. विपक्षी पार्टीयो ने भी कभी भी कांग्रेस का विकल्प बनने की कोशिश नही की और अल्पसंख्यक के बारे मे कोई कदम नही उठाया.1990 के बाद कुछ राज्यो मे लोकल पार्टिया कांग्रेस के विकल्प के तौर पे उभरी और कामयाब भी रही जैसे रजद, जाडयू, सपा बसपा आदि, इस तरह जब बिहार, यू .पी कांग्रेस का गड समझा जाता था कांग्रेस का सफाया हो गया और अब वहा कांग्रेस दोबारा आने को सोच भी नही सकती. इस से सॉफ जाहिर है के केन्द्र के स्तर पर कोई कांग्रेस का विकल्प बने तो मुसलमान उन की तरफ आ सकते है नही तो मजबूरन मुसलमान कांग्रेस को वोट दे गी ए जानते हुए भी के कांग्रेस मुसलमानो का सिर्फ अपने वोट- बैंक के लिये इस्तमाल करती है.

लेखक : अफ़ज़ल ख़ान

Source : readerblogs.navbharattimes.indiatimes.com

Short URL: http://jayhind.co.in/?p=2424

Posted by on Jul 6 2013. Filed under सच. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

2 Comments for “मुसलमानों के लिये कांग्रेस भाजपा से भी अधिक घातक”

  1. Ramesh kumar

    Bahut hi sunder lekh hai. musalmano ko bhi ab congress ki haqeeqat ka pata chal gaya hai ke congress unhe bewaqoof bana rahi hai. is se pahle congress ne dalit, backward class ke logo ko bhi bewaqoof banaya hai.

  2. सब से पहले जयहिन्द वालो को धन्यवाद देना चाहू गा के उन्हो ने ये मेरा लेख प्रकाशित किया. उस के बाद सभी रीडर और कॉमेंट करने वेल दोस्तो को भी धन्यवाद देना चाहू गा. आप मेरे नीचे दिए लिंक पे जा कर सभी लेख देख सकते है.

    अफ़ज़ल ख़ान

    http://readerblogs.navbharattimes.indiatimes.com/KASAUTI

Leave a Reply

*

Recent Posts

Photo Gallery