Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

मुजफ्फरनगर दंगा: उन दो लड़कियों से बस स्टॉप पर अक्सर होती थी छेड़खानी

Muzaffarnagar riot: two girls at bus stop were flirting every day

Muzaffarnagar riot: two girls at bus stop were flirting every day

Muzaffarnagar riot: two girls at bus stop were flirting every day

मुजफ्फरनगर : जिले में हुई सांप्रदायिक हिंसा के केंद्र में जो दो लड़कियां थीं, वे स्कूल छोड़ने पर विचार कर रही हैं। बताया जा रहा है कि हाल में हुई घटना के बाद वे अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं। 14 साल की सीमा और 16 साल की पूनम (दोनों नाम काल्पनिक) से छेड़खानी के विवाद के बाद हिंसा ने व्यापक रूप धारण कर लिया था। सीमा के 17 साल के भाई गौरव और उसके दोस्त सचिन सिंह की 27 अगस्त को हत्या कर दी गई थी। इस घटना में शाहनवाज कुरैशी की भी मौत हो गई थी। कुरैशी ने लड़कियों से छेड़खानी की थी।

भद्दे कमेंट करता था
कवाल गांव की आबादी करीब 15 हजार है। हिंदू और मुसलमान बराबर की संख्या में हैं। पूनम ने घटनाक्रम को याद करते हुए बताया कि स्कूल जाने के लिए बस स्टैंड पर बस पकड़ने जाते समय लड़कों का एक समूह भद्दी टिप्पणियां करता था और कभी-कभार हमारा रास्ता रोकता था। सीमा के पिता रवींद्र कुमार ने कहा कि 2 महीने पहले ही उन्होंने स्कूल जाना शुरू किया था और छेड़छाड़ की शिकायत करती थीं। सीमा ने नौवीं कक्षा में दाखिला लिया था, जबकि पूनम 12वीं कक्षा में थी। उनकी शिकायत के बाद गौरव उन्हें बस स्टैंड तक छोड़ने जाता था।

रवींद्र कुमार ने कहा कि गौरव की हत्या से एक दिन पहले शाहनवाज कुरैशी और उसके बीच लड़ाई हुई थी। अगले दिन दोपहर करीब एक बजे गौरव और मैं बस स्टैंड से अपने घर कवाल गांव लौट रहे थे। सचिन सिंह हमें रास्ते में मिला और साथ चलने लगा। अचानक शाहनवाज और उसके दोस्तों ने हम पर हमला कर दिया। मैं किसी तरह भाग निकला। लेकिन उन्होंने गौरव और सचिन की पत्थर से सिर कुचलकर हत्या कर दी। झगड़े में शाहनवाज भी मारा गया था। रवींद्र कुमार ने कहा कि पर्याप्त सुरक्षा के आश्वासन के बाद ही लड़कियां स्कूल जाएंगी।

 

एकतरफा कार्रवाई की गई
सचिन के पिता बिशन सिंह (45) ने बेटे की मौत के लिए पुलिस और जिला प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया। सचिन की मां मुनेश ने कहा कि मेरे बेटे की मौत के लिए सरकार की तरफ से दिए गए मुआवजे से मेरी क्षतिपूर्ति नहीं हो सकती। हमें न्याय देने के बजाए गौरव के पिता, सचिन के पिता और यहां तक कि सचिन और गौरव पर भी शाहनवाज की हत्या के लिए मामला दर्ज कर दिया गया। उन्होंने कहा कि पुलिस की तरफ से यह एकतरफा कार्रवाई थी। जिन लोगों ने मेरे बेटे की हत्या की पुलिस ने उन पर मामला दर्ज नहीं किया और वे छुट्टा घूम रहे हैं। हम न्याय चाहते हैं।

News Source : navbharattimes

Short URL: http://jayhind.co.in/?p=3017

Posted by on Sep 12 2013. Filed under खबर. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

Leave a Reply

*

Recent Posts

Photo Gallery