Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

बिहार में ‘नमो चाय’ से हुंकार भर रही है बीजेपी

narendra-modi-rolls-out-poll-blitz-to-address-indian-diaspora-in-us_050913122431

पटना। आम तौर पर बिहार की राजधानी में सुबह लोग फुटपाथ पर चाय की दुकानों पर देश की राजनीति की बात करते हैं। अब भारतीय जनता पार्टी ने इन चाय की दुकानों को ‘नमो चाय’ के जरिए प्रचार का तरीका बना लिया है। ऐसे भी बीजेपी की ओर से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी (नमो) इन दिनों कई रैलियों में खुद के चाय बेचने की कहानी सुनाते रहे हैं।

पटना के गांधी मैदान में 27 अक्टूबर को होने वाली ‘हुंकार रैली’ के प्रचार के लिए बीजेपी ने राजधानी की चाय दुकानों का सहारा लिया है। पटना के फुटपाथ पर बने 30 से ज्यादा चाय दुकानों में एक बैनर लगाया गया है जिसके एक कोने में नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगी है और एक कोने में उस चाय दुकानदार की तस्वीर लगी है। इस पोस्टर को लगने के बाद कुछ दुकानदार तो साफ-साफ कुछ नहीं बोल पाते क्योंकि उन्हें ग्राहक के नाराज होने का डर भी है लेकिन अधिकांश दुकानदार खुलकर बोल रहे हैं कि क्या मोदी का पोस्टर लगाना कोई अपराध है?

इन बैनरों में सवाल के जरिए यह भी पूछा गया है कि ‘क्या एक चाय वाला देश का प्रधानमंत्री बन सकता है? अगर जवाब हां है तो पटना में होने वाली हुंकार रैली में जरूर आएं। इस मामले में पटना के बांकीपुर क्षेत्र के विधायक नीतीन नवीन ने कहा कि दिल्ली की रैली में मोदी ने अपने चाय बेचने की कहानी सुनाई थी। उसी कहानी को लेकर बीजेपी चाय दुकानदारों से मोदी की निकटता पैदा कर रही है। उन्होंने इन बैनरों का सारा क्रेडिट दुकानदारों को देते हुए कहते हैं कि ये भी चाहते हैं कि एक चाय बेचने वाला देश का प्रधानमंत्री बने।

चाय के दुकानदार भी इन बैनरों में लगे अपने फोटो को लेकर मन ही मन खुश हैं और वह भी मोदी के समर्थन की बात कर रहे हैं। दरियापुर स्थित बैनर लगाकर चाय बेच रहे एक चाय दुकानदार राहुल कुमार बैनर के बारे में पूछने पर पहले तो वे झेंपते हैं। फिर कहते हैं कि वोट किसको देंगे यह तो अभी तक उन्हें भी नहीं मालूम पर मोदी को एक बार तो देश का प्रधानमंत्री बनना ही चाहिए।

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मंगल पांडेय कहते हैं कि ‘नमो चाय’ पटना के लिए है और लोग उनके साथ हैं। बीजेपी अलग विचार के साथ लोगों के बीच जा रही है। अब नमो चाय के दुकानदार ही उनकी यात्रा के विषय में लागों को बता रहे हैं। बहरहाल, बीजेपी ने ‘नमो चाय’ के जरिए प्रचार का अनोखा तरीका अपनाया है लेकिन मोदी की पटना यात्रा और उनकी आकांक्षाओं पर यह प्रचार कितना कारगर होगा यह तो बाद में पता चलेगा।

News Source: ibn

Short URL: http://jayhind.co.in/?p=3269

Posted by on Oct 4 2013. Filed under खबर. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

Leave a Reply

*

Recent Posts

Photo Gallery