Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

नव दुर्गा धरती पर कैसे अवतरीत हुई?

Nav Durga Maa.

Nav Durga Maa.

 

मारकण्डेय पुराण के मतानुसार नवदुर्गा अपने पूर्व जन्म में प्रजापति दक्ष की बेटी सती थी। उन्होंने अपने तप से शिव जी भगवान को प्रसन्न किया और उनकी र्भाया होने का सौभाग्य प्राप्त किया। प्रजापति दक्ष को शिव जी भगवान अपने जमाता के रूप में कबूल न थे। अपने पिता ब्रहमा जी के समझाने पर वह इस विवाह के लिए सहमत हुए थे।

शिव सती विवाह के कुछ समय के उपरांत प्रजापति दक्ष ने एक बहुत बड़े यज्ञ का आयोजन किया। इस यज्ञ में समस्त देवी-देवताओं को आने के लिए आमंत्रण भेजे गये सिवाय भगवान शिव के। यज्ञ के दिन समस्त देवी-देवता आकाश मार्ग से यज्ञ में भाग लेने जा रहे थे। जब सती का अपने पिता के यज्ञ करवाने का ज्ञात हुआ तो उन्होंने भी यज्ञ देखने और वहां जाकर परिवार के सदस्यों से मिलने का आग्रह भगवान शिव से किया।

भगवान शिव ने उन्हें अनेक प्रकार से समझाने का प्रयत्न किया कि बिन बुलाएं किसी के घर जाना सभ्य नहीं लगता मगर वो न मानी। अत:उन्हें वहां जाने की अनुमति देनी पड़ी। जब सती पिता के घर पहुंची तो उनकी मां व बहनें उनसे प्रेमपूर्वक मिली मगर पिता ने  उनसे आदर और प्रेम से बातचीत नहीं करी, यही नहीं भगवान शिव के प्रति तिरस्कार का भाव भी था।

ऐसा वातावरण देख कर सती का मन बहुत दुखी हुआ वह अपने पति का अपमान न सह सकीं और उन्होंने अपने आपको योग के बल से यज्ञ में जला कर भस्म कर लिया। नवीन जन्म में वे सती नव दुर्गा का रूप धारण कर के धरती पर अवतरीत हुई। जिनके नाम हैं-

1.शैलपुत्री 2. ब्रहमचारिणी 3. चन्द्रघंटा 4. कूष्मांडा 5. स्कन्दमाता 6.कात्यायनी 7. कालरात्रि 8. महागौरी 9. सिद्धिदात्री।

Short URL: http://jayhind.co.in/?p=1914

Posted by on Apr 13 2013. Filed under हिन्दुत्व. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

Leave a Reply

*

Recent Posts

Photo Gallery