Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

छेड़छाड़ करने वालों में खौफ बनी यह लेडी पुलिस अफसर!

Nirbya Patrolling Mobile, Female Police, SI Namita Sahu,Decline In Molestation Cases 3

भोपाल। हैलो मैडम, मैं ज्योति टॉकिज के पास बस स्टॉप पर खड़ी हूं, काफी देर से मेरे सामने खड़ी एक कार में बैठा हुआ लड़का मुझे गंदे-गंदे इशारे कर रहा है, प्लीज आप जल्दी आइए। इतना सुना नहीं कि निर्भया मोबाइल पेट्रोलिंग के टीम संबंधित जगह पर पहुंची और लड़के को कार से बाहर निकालकर उसकी धुलाई शुरू कर दी। यह कोई फिल्म की कहानी नहीं है, बल्कि भोपाल में शुरू हुई निर्भया मोबाइल पेट्रोलिंग की सच्चाई है।
बलात्कार पर सख्त कानून बनने और निर्भया कांड में दोषियों को सजा मिलने के बाद देश के बदले माहौल ने पीडि़त लड़कियों को हिम्मत और हौंसला दिया है। लोगों में यह भी विश्वास जगा है कि मीडिया की सहभागिता से अब मुजरिम का बचना मुश्किल है। इसीलिए महिलाएं अब खुलकर आवाज उठा रही हैं।
16 दिसंबर 12 को दिल्ली में चलती बस में सामूहिक बलात्कार की शिकार निर्भया की बरसी पर भोपाल पुलिस ने निर्भया को श्रद्धांजलि देते हुए, निर्भया के नाम पर महिला प्रताडऩा को रोकने के लिए एक मोबाइल पेट्रोलिंग यूनिट शुरू की है। इसका नाम भी निर्भया पर ही रखा गया। आज हम आपको निर्भया मोबाइल पेट्रोलिंग की वर्किंग के बारे में बता रहे हैं।

 

लड़कियां खुलकर सामने आ रही हैं: निर्भया पेट्रोलिंग मोबाइल प्रभारी नमिता साहू ने बताया कि शहर में जब से निर्भया पेट्रोलिंग शुरू हुई है लड़कियां अपने साथ हो रहे छेड़छाड़ के मामलों को लेकर खुलकर सामने आ रही है। वह न सिर्फ पुलिस कार्रवाई में सहयोग कर रही है, बल्कि दोषियों को सजा दिलाने के लिए हर संभव प्रयास भी कर रही हैं। पहले लोग इस तरह के मामलों को इग्नोर करने में ही खुद की भलाई समझते थे, लेकिन अब लोगों की सोच में काफी बदलाव आया है।

Nirbya Patrolling Mobile, Female Police, SI Namita Sahu,Decline In Molestation Cases 1

वेरिफाइ करना हो जाता है मुश्किल: नमिता ने बताया कि दिनभर में कई सारे कॉल आते हैं, इनमें से कुछ ब्लैंक कॉल भी होते हैं। कुछ कॉल तो ऐसे भी है, जो बस यह कंफर्म करने के लिए आते हैं कि यदि वे किसी मुसीबत में होंगे, तो क्या हमारी टीम वहां समय से पहुंच जाएगी..? इस तरह से कई कॉल आते हैं। कुछ कॉल तो फेंक भी होते हैं, इन्हें वेरिफाई करने में कई बार मुश्किल भी होता है। ऐसी स्थिति में हमारी टीम संबंधित थाने में सूचना देकर पहले उन्हें घटना स्थल पर भेजते हैं, और खबर सही होने पर खुद भी वहां जाते हैं।

 

एक दिन में आते हैं 20 से ज्यादा कॉल: इस अभियान की प्रभारी एसआई नमिता साहू ने बताया कि उनके पास एक दिन में लगभग 20 से ज्यादा कॉल आते हैं। हमारी कोशिश रहती है कि हर मामला हम मौके पर जाकर ही निपटाए, लेकिन समय के अभाव में कई बार यह हो नहीं पाता। ज्यादातर जगहों पर हम खुद जाते हैं और अन्य जगहों पर संबंधित थाने को सूचना देकर उन्हें घटना स्थल पर भेजते हैं। इस तरह से हमारी टीम हर कॉल को गंभीरता से लेते हुए तुरंत एक्शन लेती हैं।

Nirbya Patrolling Mobile, Female Police, SI Namita Sahu,Decline In Molestation Cases 2

24 घंटे रहते हैं अलर्ट: नमिता ने बताया कि, वैसे तो हमारा काम सुबह 9 बजे से लेकर रात 9 बजे तक रहता है, लेकिन हमारे वर्किंग कभी फिक्स नहीं होती। कभी 12 घंटे तो कभी 20 घंटे तक हम लगातार काम करते हैं। किसी भी वक्त, किसी भी इलाके से कॉल आ सकता है, यह सोचकर हम 24 घंटे अलर्ट और एक-दूसरे के संपर्क में रहते हैं। शहर के गर्ल्स कॉलेज और स्कूलों के पास से ज्यादा शिकायतें मिलती है, इसको ध्यान में रखते हुए निर्भया पुलिस 4-5 बार कुछ चिह्नित इलाकों में पेट्रोलिंग करती हैं।

40 प्रतिशत तक कम हुए हैं मामले: महिलाओं पर होने वाले अत्याचार, प्रताडऩा और यौन अपराधों को रोकना और महिलाओं को जागरूक करना, निर्भया पेट्रोलिंग मोबाइल का मुख्य काम है। इस अभियान की प्रभारी एसआई नमिता साहू ने बताया कि ‘निर्भया’ पेट्रोलिंग के शुरू होने के बाद से अब तक छेड़छाड़ के मामलों में लगभग 40 प्रतिशत तक कमी आई हैं। इनकी टीम में लगभग 4-5 लोग एक साथ रहते हैं, जो जरूरत के अनुसार घटाए व बढ़ाए भी जाते हैं।

कार्रवाई करने के अधिकार भी है पेट्रोलिंग टीम के पास: स्कूल, कॉलेजों के समीप लड़कियों के साथ होने वाली बदसलूकी, छेड़छाड़ अभद्र व्यवहार को रोकने के लिए राजधानी में ‘निर्भया पेट्रोलिंग को लगभग एक महीने पहले शुरू किया गया था। ताकि, महिलाओं पर होने वाले अपराधों को रोका जा सके। बसों और कामर्शियल वाहनों में महिलाओं के साथ होने वाली किसी भी प्रकार की घटना को रोकना और उस पर कार्रवाई करने के अधिकार भी इस पेट्रोलिंग टीम के पास है।

 

Nirbya Patrolling Mobile, Female Police, SI Namita Sahu,Decline In Molestation Cases

Nirbya Patrolling Mobile, Female Police, SI Namita Sahu,Decline In Molestation Cases

 

इन स्थानों पर कर सकते हैं शिकायत: ‘निर्भया’ पेट्रोलिंग मोबाइल की प्रभारी उपनिरीक्षक एसआई नमिता साहू ने बताया कि इस अभियान में शामिल सभी अधिकारियों के नंबर सार्वजनिक कर दिए गए है। नमिता साहू अपनी विशेष टीम के साथ महिला थाने से इसका संचालन करती हैं।
 इन नंबरों पर दर्ज कराए अपनी शिकायत: निर्भया पेट्रोलिंग मोबाइल प्रभारी नमिता साहू का नंबर 94251- 55777 और 9479990594 है।  साथ ही महिला थाने का फोन 2688393, 2443860 के साथ कंट्रोल रूम पर भी पीडि़ता अपनी शिकायत इन फोन नंबरों पर 2555922, 2555933 दर्ज करा सकती हैं। शिकायत मिलने पर टीम तत्काल एक्शन लेती हैं और कुछ ही देर में मौके पर पहुंच जाती है।
Posted by on Jan 7 2014. Filed under आधी आबादी, खबर. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

1 Comment for “छेड़छाड़ करने वालों में खौफ बनी यह लेडी पुलिस अफसर!”

  1. Akhilendra

    very good bhopal police

Leave a Reply

*

Recent Posts