Donation (non-profit website maintenance)

Live Indian Tv Channels

तनख्वाह लेने वाल़े कर्मचारी को भारत रत्न दिया जाना चाहिए क्या?

harat-ratan

जब से मैने सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न दिए जाने कीसुगबुगाहट देखी-पढ़ी-सुनी है तब से मुझ जैसे तुच्छ सरकारी जन-सेवक का मन, विचारों की नैय्या सरीखा अशांति के समन्दर में डगमगा रहा। क्या करूँ? क्या इस नैय्या को ओसामा (जी) बिन लादेन की तरह समन्दर में ही डुबो दूँ हमेशा के लिए या फिर कोई इसे सोमालियाई डाकूओं के हमले से बचाने जैसा काम कर किनारे सुरक्षित ले आएगा?

सचिन (जी) को भारत रत्न की बात पर मैंने सबसे पहले तो यह ढ़ूँढ़ा कि इससे पहले यह सम्मान किन्हें दिया गया है। सूची कुछ इस प्रकार मिली:

डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन, चक्रवर्ती राजगोपालाचारी, डॉक्टर चंद्रशेखर वेंकट रामन, डॉक्टर भगवान दास, सर डॉ. मोक्षगुंडम विश्वेश्वरय्या, पं. जवाहर लाल नेहरू, गोविंद बल्लभ पंत, डॉ. धोंडो केशव कर्वे, डॉ. बिधान चंद्र राय, पुरुषोत्तम दास टंडन, डॉ. राजेंद्र प्रसाद, डॉ. ज़ाकिर हुसैन, डॉ. पांडुरंग वामन काणे, लाल बहादुर शास्त्री, इंदिरा गाँधी, वराहगिरी वेंकट गिरी, के. कामराज, मदर टेरेसा, आचार्य विनोबा भावे, ख़ान अब्दुलगफ़्फ़ार ख़ान, मरुदुर गोपाला रामचन्द्रन (एम जी आर), डॉ. भीमराव रामजी आम्बेडकर, नेल्‍सन मंडेला, राजीव गांधी, सरदार वल्लभ भाई पटेल, मोरारजी देसाई, मौलाना अबुल कलाम आज़ाद, जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा (जे. आर. डी. टाटा), सत्यजीत रे (राय), ए. पी. जे. अब्दुल कलाम, गुलज़ारीलाल नन्दा, अरुणा असिफ़ अली, एम.एस. सुब्बालक्ष्मी, सी. सुब्रह्मणियम, जयप्रकाश नारायण, पं. रवि शंकर, अमर्त्य सेन, गोपीनाथ बोरदोलोई, लता मंगेशकर, उस्ताद बिस्मिल्ला ख़ां, पं.भीमसेन जोशी

 

फिर मैंने तलाशा कि यह सचिन तेंदुलकर कौन हैं? पता चला कि यह उस एक भारी-भरकम क्लब के कर्मचारी हैं जो Board of Control for Cricket In India (BCCI) कहलाता है। विशुद्ध व्यवसायिक नज़रिये सरीखे इस प्रतिष्ठान के दो मशहूर प्रोजेक्ट हैं जिन्हें नाम दिया गया है टीम इंडिया और आईपीएल। इन दोनों के अपने अपने ग्रुप मेंबर हैं जिन्हें निश्चित वेतन के अलावा अच्छा प्रदर्शन करने पर आम कारखाने जैसे बोनसभी दिया जाता है।

बात कुछ जमी नहीं! क्योंकि तभी ख्याल आया इन्कम टैक्स वाले उस झंझट का जिसमें इनकम टैक्स अफसर द्वारा सवाल ज़वाब किए जाने पर सचिन (जी) ने कहा था कि he is a non-professional cricketer और playing cricket is not his profession इसलिए फॉर्म में लिखा गया कि Income from playing cricket is reflected as ‘income from other sources’!

यह सब Sachin R. Tendulkar vs. Assistant Commissioner of Income-tax, Range 193/ IT APPEAL NOS. 428 TO 430 AND 6862 (MUM.) OF 2008 के आधिकारिक दस्तावेज़ में दर्ज़ है। तो इन भाई सा’ब को खेल के लिए कोई सम्मान कैसे दे सकती है सरकार? जब वह खुद कह रहे हों कि he is a popular model who acts in various commercials for endorsing products of various companies… A major part of the income derived by him during the year is from the exercise of his profession as an ‘actor’ in these commercials… the income derived by him from ‘acting’ has been reflected as income from “business & profession”!!

मतलब यह हुआ कि मुख्य कमाई तो विज्ञापनों की शूटिंग, मॉडलिंग से है क्रिकेट तो बस यूँ ही कभी कभी खेल लेते हैं ज़नाब!

इन सब बातों के बीच भारत सरकार के इन्कम टैक्स अफ़सर ने इसी दस्तावेज़ के अनुसार कह डाला कि He is engaged in the activity ofplaying cricket as a paid job rather than as an amateur.

अब मेरा मन किया कि कुछ और बातें टटोली जाए इनके रोजगार दाता के बारे में। खोजने निकला तो निजी चैरिटेबल ट्रस्ट के रूप में तमिलनाडु से रजिस्टर्ड लेकिन विशुद्ध रूप से एक मुनाफा कमानेवाले व्यावसायिक संगठन बीसीसीआई को दी गई भारत सरकार की धमकी दिखी कि अपने आप को खेल मंत्रालय की नीतिओं के अधीन लाओ वरना India शब्द का प्रयोग बंद कर दो!

मैं भी सोचता रहा कि क्रिकेट मैच का आयोजन करना, इसके लिए पैसे लेकर प्रायोजक ढूंढना, विज्ञापन से धन अर्जित करना, टेलीविजन पर प्रसार का अधिकार देकर मुनाफा कमाना, खेल मैदान के अंदर भी विज्ञापन प्रदर्शित कर धन लेना और यहां तक कि खिलाडिय़ों की पोशाक को भी विज्ञापन का माध्यम बनाकर धन अर्जित करना, धर्मार्थ अर्थात ‘चैरिटी‘ का काम कैसे हो गया? इस पर अभी भी खींचतान चल ही रही है। इस लेखसे पता चला कि बीसीसीआई तो अपने कर्मचारिओं से गुलामों जैसा बर्ताव करती है।

चौंकाने वाला तथ्य यह सामने आया कि शपथपत्र देकर खुद खिलाड़ी और यह बोर्ड अदालत में कह चुके हैं कि हम भारत देश के लिए नहीं खेलते, अपने बोर्ड को मुनाफा दिलवाने के लिए खेलते हैं और खिलाड़ी ठेके, कॉंट्रेक्ट पर रखे जाते हैं जिनका भुगतान किया जाता है उन्हें, मुनाफा लाने पर। साथ ही यह भी कह डाला कि ना तो हम भारत का तिरंगा फहराते हैं और ना ही किसी राजकीय चिन्ह का प्रयोग कहीं करते हैं!! तो फिर भारतीय टीम क्यों कहलाती है इन वेतनभोगी नौकरों की?

इस पर (62 पृष्टों वाली) बहुत लंबी चली बहस पर मैंने भी हिस्सा लिया था। इस बहस में कहा गया था कि जब टाटा, विप्रो, इंफ़ोसिस जैसी कम्पनियाँ अरबों, खरबों का मुनाफा कमाते हुए दुनिया में बहादुरी के साथ अपने झंडे गाड़ती है तो क्यों नहीं उन्हें टीम इंडिया कहा जाता। ख्याल यही आता है कि इनके कर्मचारिओं को क्यों नहीं कोई सम्मान दिया जाता भारत सरकार की ओर से?

ऐसे ही एक मौके पर सुपरिचित हिंदी ब्लॉगर जीतू चौधरी ने अपनी पोस्ट में लिखा था कि जहाँ भी क्रिकेट से कमाई की बात आती है तो ये अपनेआप को भारत के प्रतिनिधि कहते, सारा माल कमाते, बटोरते और हजम कर जाते हैं। लेकिन जहाँ भी सरकार इनसे कुछ फ्री में मांगना चाहती तो ये लोग फ़टाक से एक प्राइवेट क्लब मे बदल जाते।

और तो और, न्यायालय मे दिए शपथपत्र (जो अब इनकी नाक की नकेल बन जाएगा) मे ये लोग चीख चीख कर कहते कि हम तो भारत काप्रतिनिधित्व ही नही करते, ना ही हम सरकार से जुड़े है, हम तो सिर्फ़ एक क्लब है जहाँ कुछ खिलाड़ी हमारे कर्मचारी है, और अपने कर्मचारियों को खेलने के लिए हम विदेशों मे भेजते है। ना तो हम भारत मे क्रिकेट के सरोकार से जुड़े है और ना ही हम खेल मंत्रालय के अधीन है। पूरा शपथ पत्र अगर आप पढे तो आप इनकी महानता के गुण गाने लग पड़ो।

गज़ब है भई! अब कौन इससे अधिक जानकारियाँ देख कर भ्रमित होता रहे। अपने राम फिर भारत रत्न की ओर मुड़ लिए और पढ़ डाले कि यह किसी व्यक्ति के संपूर्ण व्यक्तित्व और देश के प्रति उसकी अत्यन्त समर्पण भावना के लिए यदा-कदा दिया जाने वाला अलंकरण है। यह उन आदर्श महान पुरुषों को ही दिया जाता है जिनकी जीवन गाथा पुण्य-भागीरथी के समान है, जिसे जानकर एक साधारण मनुष्य अपने आप को पाप मुक्त और निर्मल पाता है। (दिए जा चुके) ‘भारत-रत्न’ में ऐसी विभूतियों के दिव्य चरित्र हैं जिन्होंने जीवन को इतनी ऊँचाइयों तक पहुँचाया जहाँ की कोई कल्पना नहीं कर सकता। ‘भारत-रत्न’ अनेक महान व्यक्तियों की जीवन-गाथा के साथ भारत के उस काल का इतिहास भी है, जिस काल से इन आदर्श पुरुषों का संबंध रहा।

लो जी, यह प्रश्न तो अब भी सामने खड़ा कि तनख्वाह ले कर अपने मालिक को मुनाफ़ा दिलवाने वाल़े कर्मचारी को भारत रत्न दिया जाना चाहिए क्या?

अब आप ही सहायता करो!

 

साभार  :  BS Pable

 http://www.bspabla.com

Posted by on Nov 17 2013. Filed under मेरी बात, सच. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can skip to the end and leave a response. Pinging is currently not allowed.

Leave a Reply

*

Recent Posts